जन लोकपाल

जन लोकपाल कानून वर्जन 2.2
English |  हिंदी



(प्रस्तुत दस्तावेज़ श्री शान्ति भूषण, जस्टिस संतोष हेगड़े, प्रशांत भूषण एवं अरविन्द केजरीवाल द्वारा तैयार जनलोकपाल बिल के  वर्ज़न-2.2 का हिन्दी अनुवाद है. किसी भी आशय के स्पष्टीकरण के लिए मूल अंगे्रज़ी मसविदा ही देखें.)


इस विधेयक का मसविदा केन्द्र में लोकपाल नामक संस्था की स्थापना के लिए तैयार किया गया है. लेकिन इस विधेयक के प्रावधान इस तरह के होंगे ताकि प्रत्येक राज्य में इसी तरह की लोकायुक्त संस्था स्थापित की जा सके. 



जन लोकपाल विधेयक संस्करण 2.2



एक अधिनियम, जो केन्द्र में ऐसी प्रभावशाली भ्रष्टाचाररोधी और शिकायत निवारण प्रणाली तैयार करेगा, ताकि भ्रष्टाचार के विरुद्ध एक प्रभावी तन्त्र तैयार हो सके और भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वालों को प्रभावी सुरक्षा मुहैया कराई जा सके.  



1. संक्षिप्त नाम और प्रारम्भ- 

(1)   इस अधिनियम को जन लोकपाल अधिनियम, 2010 कहा जा सकता है.

(2)   अपने अधिनियमन के 120वें दिन यह प्रभावी हो जाएगा. 



2. परिभाषाएं- इस अधिनियम में, जब तक कि सन्दर्भ से अन्यथा अपेक्षित न हो,- 
(1)   `कार्रवाई´ का अर्थ है किसी भी सरकारी कर्मचारी द्वारा अपने कर्र्तव्य के निर्वहन के लिए की गई कोई कार्रवाई और जिसमें निर्णय, संस्तुति या निष्कर्ष अथवा अन्य किसी प्रकार की कार्रवाई सम्मिलित है, इसमें जानबूझकर विफलता, चूक या इसी तरह की अभिव्यक्ति करने वाली कार्रवाई भी शामिल होगी

(2)   `आरोप´ में किसी लोकसेवक के सम्बन्ध में निम्नलिखित में, से किसी भी बात की पुष्टि शामिल है- 
क.     वह सरकारी कर्मचारी है और कदाचार में लिप्त है 
ख.     भ्रष्टाचार में लिप्त है.

(3)   `परिवाद´ में सम्मिलित है, कोई शिकायत या आरोप अथवा भ्रष्टाचार के विरुद्ध आवाज उठाने वाले व्यक्ति द्वारा सुरक्षा एवं उचित कार्रवाई के लिए किया गया अनुरोध. 

(4)   `भ्रष्टाचार´ के अन्तर्गत वे सभी कृत्य सम्मिलित है, जो भारतीय दण्ड संहिता के अध्याय 9 अथवा भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम, 1988 के तहत दण्डनीय तय किए गए हैं.
साथ ही यदि किसी व्यक्ति ने किसी कानून या नियम का उल्लंघन करते हुए सरकार से कोई लाभ लिया हो, वह व्यक्ति और उसके साथ ही वे लोक सेवक जिन्होंने प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से लाभ लेने में उस व्यक्ति की सहायता की हो, भ्रष्टाचार में लिप्त माने जाएंगे. 

(5)   `सरकार´ अथवा `केन्द्र सरकार´ से आशय है 'भारत सरकार'.

(6)   शासकीय कर्मचारी´ से आशय है कोई व्यक्ति, जिसकी नियुक्ति किसी भी समय लोक सेवा अथवा केन्द्र सरकार या उच्च न्यायालय या उच्चतम न्यायालय से सम्बन्धित किसी पद के लिए, प्रतिनियुक्ति अथवा स्थायी, अस्थायी या अनुबन्ध के आधार पर हुई है या हुई थी, लेकिन इसमें न्यायाधीश शामिल नहीं होंगे.

(7)   `शिकायत´ का अर्थ है किसी व्यक्ति द्वारा यह दावा कि उसे सिटीजन्स चार्टर के अनुसार और उस विभाग के जन शिकायत अधिकारी से सम्पर्क के बाद भी सन्तोषजनक समाधान नहीं मिल पाया.

(8)   `लोकपाल´ से आशय है -
क.     इस अधिनियम के अधीन एवं इस अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों के अन्तर्गत निर्धारित कार्य  के पालन हेतु गठित पीठें, अथवा 
ख.     इस अधिनियम के अन्तर्गत, या इस अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों के अन्तर्गत बनाये गये विभिन्न नियमों, विनियमों या आदेशों के अन्तर्गत नियत, तरीके और सीमा में, अपनी शक्तियों का उपयोग करने वाला और अपने कर्तव्यों एवं जिम्मेदारियों का निर्वहन करने वाला कोई अधिकारी या कर्मचारी
ग.      अन्य सभी प्रयोजनों के लिए, संस्था के तौर पर संयुक्त रूप से कार्यरत अध्यक्ष एवं सदस्य;

(9)   `अल्प दण्ड´ और `प्रमुख दण्ड´ से आशय वही होगा जो केन्द्रीय लोक सेवा आचरण नियमों में परिभाषित है. 

(10) `कदाचार´ का अर्थ है वही होगा जैसा कि केन्द्रीय लोक सेवा (आचरण) नियम में परिभाषित है और जिसमें सतर्कता का दृष्टिकोण हो

(11) `लोक प्राधिकरण´ में सम्मिलित है कोई प्राधिकरण अथवा निकाय अथवा स्वशासी संस्था जिसकी स्थापना या गठन-
क.     संविधान द्वारा अथवा संविधान के अन्तर्गत हुआ हो
ख.     संसद द्वारा बनाए गए किसी अन्य कानून द्वारा हुआ हो;
ग.      सरकार द्वारा जारी अधिसूचना अथवा आदेश, और सरकारी स्वामित्व, नियन्त्रित अथवा पर्याप्त अंश से वित्तपोषित संस्था 

(12) `लोक सेवक´ का अर्थ है, वह व्यक्ति जो किसी भी समय था अथवा है,- 
क.     प्रधानमन्त्री;
ख.     मन्त्री;
ग.      संसद सदस्य;
घ.      उच्च न्यायालयों और उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश;
ङ.      सरकारी कर्मचारी;
च.      अध्यक्ष अथवा उपाध्यक्ष (यथा नाम) अथवा स्थानीय प्राधिकरण का कोई सदस्य, जो कि केन्द्रीय सरकार के नियन्त्रण में हो अथवा एक सांविधिक निकाय अथवा निगम जिसका गठन भारतीय संसद द्वारा बनाए गए किसी कानून के अन्तर्गत हुआ हो, जिसमें सहकारी समिति भी सम्मिलित है, अथवा ऐसी सरकारी कम्पनी, जो कम्पनी अधिनियम 1956 की धारा 617 के अन्तर्गत अर्थ रखती हो, और सरकार द्वारा स्थापित कोई भी सांविधिक अथवा गैर सांविधिक समिति अथवा परिषद के सदस्य
छ.     इसमें वे सभी सम्मिलित हैं, जो भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम 1988 की धारा 2 (सी) में `लोकसेवक´ घोषित हैं.
ज.     ऐसे अन्य प्राधिकारी, जो केन्द्र सरकार की अधिसूचना द्वारा, समय-समय पर उल्लिखित किए जाएं

(13) `सतर्कता दृष्टिकोण´ में सम्मिलित है-
क.     भ्रष्टाचार की सभी गतिविधियां
ख.     घोर लापरवाही अथवा जानबूझकर की गई लापरवाही, निर्णय लेने में कोताही, प्रणालियों और प्रकियाओं का घोर उल्लंघन, ऐसे मामलों में स्वविवेक अधिकार का अतिरेक जहां कोई प्रकट/सार्वजनिक हित स्पष्ट नहीं है, नियन्त्रणकर्ता अथवा वरिष्ठ अधिकारी को समय पर सूचित करने में चूक
ग.      अपने अधीनस्थ कर्मचारियों द्वारा कर्तव्यों की उपेक्षा अथवा कार्यालय के दुरुपयोग की शिकायत मिलने पर भी कार्रवाई में असफलता/विलम्ब, यदि कानून के अन्तर्गत किसी अधिकारी का ऐसा दायित्व बनता है तो
घ.      प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से किसी के आचरण के माध्यम से भेदभाव में संलिप्तता. 
ङ.      भ्रष्टाचार के विरुद्ध आवाज उठाने वालों का उत्पीड़न
च.      मामले के निस्तारण में किसी तरह का असंगत/अनुचित विलम्ब, सभी प्रासंगिक कारकों पर विचार करने के बाद, मामले में सतर्कता दृष्टिकोण की उपस्थिति निष्कर्ष को और सुदृढ़ता प्रदान करेगी. 
छ.     किसी से अनुचित पूछताछ या जांच, भ्रष्टाचार के दोषी को अनावश्यक मदद पहुंचाने अथवा निर्दोष को फंसाने के लिए.
ज.     लोकपाल द्वारा समय-समय पर अधिसूचित कोई अन्य विषय सामग्री
(14) `भ्रष्टाचार के विरुद्ध आवाज उठाने वाला´ व्यक्ति वह है, जो किसी खतरे का सामना करता है -
क.     पेशेगत नुकसान, जिसमें गैरकानूनी स्थानान्तरण, प्रोन्नति से इंकार, उपयुक्त अनुलाभ से इंकार, विभागीय कार्यवाही, भेदभाव सम्मिलित है पर सीमित नहीं अथवा 
ख.     शारीरिक क्षति अथवा 
ग.      वास्तव में इस तरह की क्षति
जो कि या तो इस अधिनियम के अन्तर्गत लोकपाल से शिकायत करने, अथवा सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के अन्तर्गत याचिका दाखिल करने के कारण से सम्बन्धित है अथवा भ्रष्टाचार अथवा कुशासन को उजागर करने अथवा रोकने के उद्देश्य से की गई कोई अन्य विधिक कार्रवाई.

3. लोकपाल संस्था की स्थापना और लोकपाल की नियुक्ति: 
(1)   लोकपाल नामक एक संस्था होगी, जिसमें अपने अधिकारियों और कर्मचारियों के सहित एक अध्यक्ष और दस सदस्य होंगे. 
(2)   लोकपाल के अध्यक्ष और सदस्यों का चुनाव उसी तरह होगा, जैसा कि इस अधिनियम में बताया गया है.
(3)   लोकपाल के अध्यक्ष अथवा सदस्य के तौर पर नियुक्त व्यक्ति को, अपना कार्यभार सम्भालने से पूर्व, निर्धारित प्रारूप में राष्ट्रपति के समक्ष शपथ अथवा प्रतिज्ञान लेना होगा.
(4)   इस अधिनियम के लागू होने के छ: माह के अन्दर सरकार पहले पहले लोकपाल के अध्यक्ष एवं सदस्यों की नियुक्ति सरकार करेगी, और सभी प्रचालन तन्त्र एवं परिसम्पत्तियों के साथ संस्था का गठन हो जाएगा. 
(5)   सरकार -
क.     सेवानिवृत्ति, सदस्य अथवा अध्यक्ष की सेवानिवृत्ति के तीन माह पूर्व, अथवा
ख.     किसी अन्य अनपेक्षित कारण से इस तरह की रिक्ति उत्पन्न होने के एक माह के भीतर. लोकपाल के अध्यक्ष और सदस्य की नियुक्ति करेगी

4. लोकपाल के अध्यक्ष और सदस्यगण कुछ विशेष कार्यालयों से सबन्द्ध नहीं रहेंगे-लोकपाल के अध्यक्ष एवं सदस्यगण संसद या किसी राज्य की विधायिका के मौजूदा सदस्य नहीं होंगे या किसी पद या लाभ के न्यास में (अध्यक्ष या सदस्य के पद के अलावा) नहीं रहेंगे या किसी अन्य व्यवसाय या पेशे में नहीं होंगे, अपना कार्यभार सम्भालने से पूर्व, लोकपाल का अध्यक्ष अथवा सदस्य चुना गया व्यक्ति -
(1)   यदि वह किसी न्यास अथवा लाभ के पद पर है, उस पद से त्यागपत्र दे देगा, या
(2)   यदि वह कोई व्यवसाय कर रहा है, उस व्यवसाय के कार्य व्यवहार अथवा प्रबन्धन से अपना सम्बन्ध समाप्त कर लेगा; या
(3)   यदि वह किसी पेशे में है तो उस पेशे को स्थगित करना होगा
(4)   यदि वह प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से किसी अन्य गतिविधि से जुड़ा हुआ है, जिसकी वजह से लोकपाल में उसके दायित्वों के प्रदर्शन में हितों का टकराव सम्भव है, उसे उस गतिविधि से अपना जुड़ाव खत्म कर देना होगा. 
उपबन्ध किया गया है कि यदि उस काम के छोड़ देने के बाद भी, उस गतिविधि से जिससे वह पूर्व में जुड़ा था, से लोकपाल में उसके प्रदर्शन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की सम्भावना है, वह व्यक्ति लोकपाल का अध्यक्ष अथवा सदस्य नियुक्त नहीं किया जा सकेगा.

5. लोकपाल का कार्यकाल एवं अन्य सेवा शर्तें- 
(1)   लोकपाल के अध्यक्ष अथवा सदस्य के रूप में नियुक्त व्यक्ति का कार्यकाल कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से पांच साल या 70 वर्ष की उम्र, जो भी पहले हो, होगा. 
आगे यह भी उपबन्ध है कि
क.     लोकपाल का अध्यक्ष अथवा सदस्य, राष्ट्रपति को सम्बोधित हस्तलिखित पत्र के जरिए पद त्याग सकता है
ख.     अध्यक्ष अथवा सदस्य को इस अधिनियम में निहित तरीके से पद से हटाया जा सकता है. 
(2)   अध्यक्ष और प्रत्येक सदस्य को प्रति माह क्रमश: भारत के मुख्य न्यायाधीश और उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों के बराबर वेतन मिलेगा.
(3)   अध्यक्ष अथवा सदस्य के लिए देय भत्ते व पेंशन और अन्य सेवा शर्तें वहीं होंगी, जैसा निर्धारित किया जाए. 
परन्तु अध्यक्ष अथवा सदस्य को देय भत्ते व पेंशन और अन्य सेवा शर्तें उसकी नियुक्ति के बाद उसके लिए बदली नहीं जाएंगी.
(4)   लोकपाल कार्यालय के प्रशासनिक व्यय, जिसमें देय वेतन, भत्ते और पेंशन शामिल हैं, अथवा उस कार्यालय में कार्य कर रहे व्यक्तियों के सम्बन्ध में, भारत की संचित निधि पर भारित होगा. 
(5)   `लोकपाल निधि´ के नाम से एक अलग निधि होगी, जिसमें लोकपाल द्वारा लगाए गए दण्ड/जुर्माने जमा होंगे और जिसमें इस अधिनियम की धारा 19 के अन्तर्गत वसूले गए सार्वजनिक धन के नुकसान का 10 फीसदी भी सरकार द्वारा जमा किया जाएगा. इस निधि का निस्तारण पूरी तरह लोकपाल के विवेक पर होगा और इस निधि का प्रयोग लोकपाल को बढ़ाने/उन्नयन/बुनियादी सुविधाओं के विस्तार के लिए ही किया जाएगा. 
(6)   लोकपाल के अध्यक्ष एवं सदस्यगण भारत सरकार या किसी राज्य सरकार अथवा ऐसे किसी निकाय, जो सरकार द्वारा वित्तपोषित हो, में किसी भी पद पर नियुक्ति या संसद, राज्यों की विधायिका अथवा स्थानीय निकायों का चुनाव लड़ने के पात्र नहीं होंगे, यदि उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे देने के बाद अध्यक्ष अथवा सदस्य के तौर पर किसी भी अवधि के लिए कोई पद ग्रहण किया है. किसी सदस्य को अध्यक्ष नियुक्त किया जा सकता है, बशर्ते सदस्य और अध्यक्ष के तौर पर उसका कार्यकाल पांच वर्ष से अधिक न हो और कोई भी सदस्य अथवा अध्यक्ष पांच साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद पुनर्नियुक्ति  या सेवा विस्तार का पात्र नहीं होगा. 

6. अध्यक्ष एवं सदस्यों की नियुक्ति
(1)   अध्यक्ष एवं सदस्यों की नियुक्ति एक चयन समिति की संस्तुति पर राष्ट्रपति द्वारा की जाएगी.
(2)   निम्नलिखित लोग लोकपाल के अध्यक्ष एवं सदस्य बनने के पात्र नहीं होंगे:
क.     कोई व्यक्ति, जो भारत का नागरिक नहीं है. 
ख.     कोई व्यक्ति जिसे भारतीय दण्ड संहिता, अपराध संहिता अथवा किसी अन्य अधिनियम के तहत आरोपित किया गया हो अथवा सीसीएस आचरण नियमों के तहत दण्डित किया गया हो.
ग.      कोई व्यक्ति जिसकी उम्र 40 वर्ष से कम हो.
घ.      कोई व्यक्ति जो किसी भी सरकार की सेवा में था और पिछले दो वर्षों के भीतर कार्यालय छोड़ दिया था, या तो त्यागपत्र अथवा सेवानिवृत्ति के माध्यम से. 
(3)   लोकपाल के कम से कम चार सदस्य विधिक पृष्ठभूमि के होंगे. अध्यक्ष सहित दो से अधिक सदस्य पूर्व नौकरशाह नहीं होंगे.
स्पष्टीकरण: कानूनी पृष्ठभूमिका तात्पर्य है कि वह व्यक्ति भारत में कम से कम दस सालों तक न्यायिक सेवा में पद सम्भाल चुका हो अथवा उच्च न्यायालय या उच्चतम न्यायालय में कम से कम 15 साल तक अधिवक्ता रहा हो.
(4)   सदस्यों और अध्यक्ष की निष्ठा असन्दिग्ध हो और पूर्व में उन्होंने भ्रष्टाचार से लड़ने के संकल्प का प्रदर्शन किया हो.
(5)   चयन समिति में निम्नलिखित लोग होंगे
क.     भारत के प्रधानमन्त्री
ख.     लोकसभा में नेता विपक्ष
ग.      उच्चतम न्यायालय के सबसे कम उम्र के दो न्यायाधीश
घ.      उच्च न्यायालयों के सबसे कम उम्र के दो न्यायाधीश
ङ.      भारत के नियन्त्रक एवं महालेखा परीक्षक
च.      मुख्य निर्वाचन आयुक्त
छ.     प्रथम चयन प्रक्रिया के बाद से लोकपाल के अध्यक्ष एवं सेवानिवृत्त होने वाले सदस्य
(6)   प्रधानमन्त्री चयन समिति के अध्यक्ष के रूप में कार्य करेगा.
(7)   चयन समिति के विचारार्थ योग्य उम्मीदवारों की सूची तैयार करने हेतु एक खोज कमेटी होगी, जिसमें दस सदस्य होंगे
(8)   खोज समिति के सदस्यों का चयन निम्नलिखित तरीके से होगा
क.     चयन समिति भारत के पूर्व नियन्त्रक एवं महालेखा परीक्षकों और भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्तों में से खोज समिति के पांच सदस्यों का चयन करेगी.
             परन्तु निम्नलिखित लोग खोज समिति के सदस्य बनने के पात्र नहीं होंगे:
(i) कोई व्यक्ति जिसके विरुद्ध विधिवत (सारभूत) भ्रष्टाचार का आरोप लग चुका हो.
(ii) कोई व्यक्ति जो सेवानिवृत्ति के बाद किसी राजनीतिक दल में शामिल हो गया हो अथवा किसी राजनीतिक दल से उसका गहरा जुड़ाव रहा हो. 
(iii) कोई व्यक्ति जो किसी भी रूप में सरकार की सेवा कर रहा हो.
(iv) कोई व्यक्ति जो सेवानिवृत्ति के बाद भी सरकारी कार्य कर रहा हो, उन कार्यों  को छोड़कर जो कि उस पद के लिए आरक्षित हैं, जिससे वह सेवानिवृत्त हुआ हो. 
ख.     चयनित उपरोक्त पांच सदस्य, नागरिक समाज से पांच सदस्यों को मनोनीत करेंगे.

(9)   खोज समिति ऐसे वर्ग के लोगों अथवा ऐसे व्यक्तियों से संस्तुति अमन्त्रित करेगी, जिन्हें वह इसके लिए उचित समझती हो. इस संस्तुति में अन्य विषयों के साथ-साथ अधोलिखित विवरण होने अनिवार्य हैं.
क.     जिस प्रत्याशी की संस्तुति की गई है, उसका व्यक्तिगत विवरण.  
ख.     प्रत्याशी ने अतीत में अगर किसी कानूनी आरोप या नैतिक भ्रष्टाचार के आरोप का सामना किया है तो उसका पूरा विवरण.
ग.      भ्रष्टाचार के खिलाफ अतीत में उसके द्वारा किए गए प्रयासों का लिखित प्रमाण.
घ.      अतीत का ऐसा विवरण जो यह दर्शाता हो कि वह अपने विवेक से निर्णय करता है और किसी भी तरह उसे प्रभावित नहीं किया जा सकता, यदि कोई हो तो.
ङ.      कोई अन्य सामग्री, जिसका निर्णय खोज समिति करे.
(10)  चयन के लिए अधोलिखित प्रक्रिया का अनुसरण किया जाएगा -
क.     प्रत्याशियों की सूची उनके समूचे विवरण के साथ, जो उन्होंने उपरोक्त प्रारूप में दिया हो, उसे वेबसाइट पर प्रदर्शित किया जाएगा. 
ख.     इन नामों पर जनता की प्रतिक्रिया मांगी जाएगी. 
ग.      खोज समिति इन प्रत्याशियों की पृष्ठभूमि और पहले किए गए कार्यों से सम्बन्धित सूचनाएं जुटाने के लिए कोई भी माध्यम इस्तेमाल कर सकती है.
घ.      प्रत्याशियों के बारे में एकत्रित सभी सामग्री खोज समिति के हर सदस्य को अग्रिम तौर पर उपलब्ध कराई जाएगी. समिति के सदस्य हर प्रत्याशी का अपनी ओर से आंकलन करेंगे. 
ङ.      समिति मिलकर हरेक उम्मीदवार के बारे में प्राप्त सामग्रियों पर चर्चा करेगी. चयन मुख्यत: सर्वसम्मति के आधार पर किया जाएगा.
परन्तु जांच समिति के तीन या अधिक सदस्य अगर लिखित कारणों के आधार पर किसी सदस्य के चयन पर आपत्ति करते हैं तो उसका चयन नहीं किया जाएगा.
च.      खोज समिति कुल रिक्तियों की तीन गुना संख्या के बराबर नामों की सूची बनाकर चयन समिति के विराचार्थ प्रस्तुत करेगी
छ.     चयन समिति, रिक्तियों की संख्या के बराबर संख्या में प्रत्याशियों का चयन कर प्रधानमन्त्री को देगी. चयन मुख्यत: सर्वसम्मति के आधार पर किया जाएगा. 
परन्तु अगर चयन समिति के तीन या अधिक सदस्य किसी सदस्य के चयन का विरोध लिखित रूप में देते हैं, तो उस व्यक्ति का चयन नहीं होगा. 
ज.     खोज समिति की सभी बैठकें और सभी चयन की वीडियो रिकॉर्डिंग होगी और इसे सार्वजनिक किया जाएगा. 
(11)  चयन समिति द्वारा तय किए गए नामों की अनुशंसा प्रधानमन्त्री तत्काल राष्ट्रपति से करेंगे, जो इस अनुशंसा प्राप्ति के एक महीने के भीतर नियुक्ति का आदेश जारी करेंगे.
(12)  अगर चयन समिति का कोई सदस्य चयन प्रक्रिया के जारी रहने के दौरान ही सेवानिवृत हो जाता है तो उस स्थिति में वह सदस्य चयन समिति में तब तक बना रहेगा, जब तक कि चयन प्रक्रिया पूरी न हो जाए.

7. अध्यक्ष अथवा सदस्यों को हटाना -
(1)   अध्यक्ष या किसी सदस्य को केवल राष्ट्रपति के आदेश से तभी उसके पद से हटाया जा सकता है जबकि निम्न में से कोई एक या अधिक आधार हो - 
क.     कदाचार प्रमाणित होने पर
ख.     पेशागत, मानसिक या शारीरिक अक्षमता
ग.      दिवालिया
घ.      नैतिक भ्रष्टाचार से सम्बद्ध आरोप लगने पर
ङ.      पद पर रहते हुए किसी दूसरे वैतनिक कार्यों में लिप्त पाए जाने पर
च.      ऐसे आर्थिक लाभ या अन्य लाभ हासिल करने पर जो उस व्यक्ति के सदस्य या अध्यक्ष के रूप में कार्य को प्रभावित कर सकता है.
छ.     अपने पास विचाराधीन मामले में, किसी का पक्ष लेने के उद्देश्य से अथवा किसी को फंसाने के उद्देश्य से, बाहरी प्रभाव द्वारा निर्देशित/संचालित होने पर 
ज.     किसी सरकारी अधिकारी को अनुचित रूप से प्रभावित करने या प्रभावित करने का प्रयास करने पर.
झ.     ऐसी कोई चूक या ऐसा कोई कार्य करने पर, जो भ्रष्टाचार निरोधी कानून के तहत दण्डनीय है, या किसी कदाचार में लिप्त पाए जाने पर.
ञ.      यदि कोई सदस्य या अध्यक्ष किसी भी तरीके से, भारत  सरकार अथवा किसी प्रदेश सरकार द्वारा या उसके किसी अधिकारी या उसके प्रतिनिधि द्वारा स्थापित अनुबन्ध या समझौते में रुचि रखता हो या उससे सम्बद्ध हो, या उससे होने वाले लाभों से अथवा उससे होने वाली किसी तरह की आय से सदस्य के अलावा किसी और तरह से सम्बन्ध रखता हो, या किसी निगमित कम्पनी से सम्बद्ध हो, उसे कदाचार का दोषी समझा जाएगा.  
(2)   लोकपाल के किसी सदस्य या अध्यक्ष को निष्कासित करने के लिए अधोलिखित प्रक्रिया का अनुसरण करना होगा.
क.       कोई भी व्यक्ति लोकपाल के एक या अधिक सदस्यों या अध्यक्ष के खिलाफ ठोस सबूत पेश करते हुए उसके निष्कासन की याचिका पेश कर सकता है.
ख.      ऐसी याचिका प्राप्त होने पर सुप्रीम कोर्ट इसकी सुनवाई करेगा और अधोलिखित में से एक या एक से अधिक कदम उठा सकता है:
(i)                  सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त विशेष जांच दल को जांच का आदेश, यदि प्रथम दृष्टया इसकी आवश्यकता महसूस होती है और अगर सम्बन्धित पक्षों द्वारा दायर हलफनामों से इसका निर्णय करना सम्भव न हो सके. विशेष जांच दल तीन महीने के अन्दर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगा.
(ii)                        विशेष जांच दल द्वारा उपबन्ध (1) के तहत जांच लम्बित होने पर, उस सदस्य से आंशिक अथवा पूरा काम वापस ले लेने का आदेश देना
(iii)               कोई मामला न बनने की स्थिति में याचिका रद्द करना
(iv)              आधारों की पुष्टि होने पर, सम्बन्धित सदस्य अथवा अध्यक्ष को हटाने की अनुशंसा राष्ट्रपति के पास भेजना
(v)                        यदि प्रथमदृष्टया भ्रष्टाचार निरोधी कानून या किसी अन्य कानून के तहत किसी दण्डनीय अपराध का मामला बनता हो तो समुचित एजेंसी को केस दर्ज करने और जांच का निर्देश देना 

ग.      सुप्रीम कोर्ट के पांच वरिष्ठतम न्यायधीशों के पैनल की पीठ बनेगी. परन्तु अगर इन न्यायाधीशों में से कोई भी कभी चयन समिति का सदस्य रहा हो या जिसके खिलाफ कोई मामला लोकपाल के समक्ष लम्बित हो, वह उस पीठ का सदस्य नहीं हो सकेगा.
घ.      सुप्रीम कोर्ट ऐसी याचिकाओं को इस आधार पर ख़ारिज नहीं कर सकता कि उसके खिलाफ पहले से ऐसा ही मामला विचाराधीन है.
ङ.      अगर सुप्रीम कोर्ट को लगता है कि याचिका नुकसान पहुंचाने की मंशा या बुरी नीयत से दायर की गई है तो अदालत शिकायतकर्ता पर जुर्माना लगा सकती है या उसे एक साल तक कैद की सजा सुना सकती है. 
सुप्रीम कोर्ट से उपयुर्क्त उपबन्ध (ख)(iv) में अनुशंसा मिलने की स्थिति में प्रधानमन्त्री, सदस्य या सदस्यों अथवा लोकपाल के अध्यक्ष को तत्काल हटाए जाने की अनुशंसा राष्ट्रपति से करनी होगी जो उस सदस्य या सदस्यों अथवा अध्यक्ष को अनुंशसा प्राप्त होने के एक महीने के भीतर हटाने का आदेश जारी करेंगे.



लोकपाल की शक्तियां एवं कार्य



8. लोकपाल के कार्य: 

(1)   लोकपाल ऐसी शिकायतों की प्राप्तियों के लिए उत्तरदायी होगा जिनमें-

क.     जिसमें भ्रष्टाचार निरोधक कानून के अधीन चूक के आरोप हों या दण्डनीय कृत्य के आरोप लगाए गए हों,

ख.     जहां सरकारी सेवक पर दुर्व्यवहार के आरोप हों

ग.      शिकायत 

घ.      भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने वालों से मिली शिकायतें,

ङ.      लोकपाल के कर्मचारियों के खिलाफ शिकायतें

(1क) अपने कर्मचारियों की अखण्डता सुनिश्चित करना, चाहे वह स्थाई हों अथवा अन्य, लोकपाल का मुख्य कर्र्तव्य होगा. लोकपाल इसे यह सुनिश्चित करने के लिए पूर्णत सक्षम एवं सशक्त होगा. 

(2)   लोकपाल, जांच एवं पूछताछ के बाद, जैसा वह उचित समझे, निम्नलिखित कार्यों में से एक या एकाधिक कार्रवाई कर सकता है:
क.     अगर प्रथम दृष्टया शिकायत नहीं बनती है तो मामला बन्द करना, अथवा 
ख.     सरकारी कर्मचारी और साथ ही साथ उस व्यक्ति, जो इस कृत्य में पक्षकार है, के खिलाफ आरोप- पत्र दाखिल करना
ग.      अगर सरकारी कर्मचारी भ्रष्टाचार निरोधक कानून के अधीन अन्तत: दोषी पाया जाता है तो सुसंगत आचार संहिता के तहत उस पर युक्तियुक्त दण्ड आरोपित करने की अनुशंसा करना और उस सरकारी कर्मचारी की बर्खास्तगी की भी सुनिश्चित सिफारिश करना
घ.      जांच के अधीन विषयगत यदि किसी लाइसेंस या पट्टा या स्वीकृति या ठेका या समझौते को रद्द करने अथवा संशोधित करने का आदेश दे सकता है
ङ.      अगर भ्रष्टाचार के कृत्य में सम्बन्धित प्रतिष्ठान या कम्पनी या ठेकेदार या किसी अन्य को शामिल पाया जाता है तो उसे प्रतिबन्धित सूची में डालने का आदेश देना
च.      इस अधिनियम के प्रावधानों के मुताबिक, समुचित अधिकारियों को शिकायतों के निवारण के लिए उपयुक्त दिशा निर्देश जारी करना 
छ.     अगर लोकपाल के आदेश का विधिवत अनुपालन नहीं होता है, तो उन आदेशों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए इस अधिनियम के तहत आदेश जारी करना
ज.     इस अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों के अनुसार भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने वालों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए जरूरी कार्रवाई करना 

(3)   अगर किसी भी मामले में लोकपाल को किसी स्रोत से जानकारी हो है, तो वह इस अधिनियम के अन्तर्गत, अगर इस तरह का कोई मामला उपबन्ध (1) की धारा (क), (ख), (ग) या (घ) में उल्लेखित है, स्वत: संज्ञान लेते हुए कार्रवाई कर सकता है.

(4)   समय-समय पर जरूरत पड़ने पर समुचित अधिकारी को उनके कामकाज, प्रशासन एवं अन्य व्यवस्था में परिवर्तन के लिए दिशा-निर्देश जारी कर सकता है, ताकि भ्रष्टाचार, दुर्व्यवहार, जन शिकायत एवं भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने वालों की प्रताड़ना की गुंजाइश और सम्भावना कम हो सके

(5)   इस धारा की उपधारा (2) (ग) के अन्तर्गत लोकपाल द्वारा जारी किए गए आदेश सरकार के लिए बाध्यकारी होंगे और आदेश मिलने के एक सप्ताह के अन्दर उसका कार्यान्वयन जरूरी होगा. 

(6)   भ्रष्टाचार निरोधक कानून की धारा 19 को समाप्त कर दिया जाएगा. इस अधिनियम के कार्यान्वयन में दिल्ली विशेष पुलिस संस्थापना अधिनियम की धारा 6-क लागू नहीं होगी.

(7)   इस अधिनियम की किसी भी कार्यवाही में अपराध प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 197 लागू नहीं होगी. किसी भी कानून के तहत लोकपाल से एक बार स्वीकृति मिल जाने के बाद, ऐसी सभी स्वीकृतियां, जो आरम्भिक जांच के लिए जरूरी हैं, प्रदत्त मानी जाएंगी.

9. सर्च वारण्ट जारी होना आदि-
(1)    जहां लोकपाल, अपने पास उपलब्ध सूचना के आधार पर
क.     अगर यह यकीन करने का कोई कारण देखता है, कि कोई व्यक्ति-
(i)      जिसे इस अधिनियम के अन्तर्गत सम्मन या नोटिस जारी किया गया है या जारी किया जा सकता है, जो किसी जांच के लिए ज़रूरी या उपयोगी कोई सम्पत्ति दस्तावेज या अन्य कोई वस्तु प्रस्तुत नहीं करेगा, या नहीं कर पाएगा, या प्रस्तुत नहीं करने की वजह होगा
(ii)       जिसके कब्जे में मुद्रा, स्वर्ण, आभूषण या दूसरी मूल्यवान चीजें या वस्तुएं हैं और ऐसी मुद्रा, स्वर्ण, आभूषण या दूसरी मूल्यवान चीजें हैं जिनकी घोषणा, सम्पत्ति की घोशणा करने सम्बन्धी किसी भी प्रभावी कानून के अन्तर्गत सक्षम प्राधिकार के समक्ष,  अंशत: या पूर्णत: नहीं की गई है 
. विचार करता हो कि उसके द्वारा आरम्भ की गई किसी भी जांच या अन्य कार्रवाई का उद्देश्य, सामान्य खोज या निरीक्षण द्वारा पूरा होगा,
सर्च वारण्ट के ज़रिए किसी ऐसे पुलिस अधिकारी को, जिसका ओहदा पुलिस इंस्पेक्टर से नीचे नहीं होगा, तलाशी लेने, निरीक्षण करने के लिए तदानुसार अधिकृत करेगा, और ऐसा करने के लिए वह अधिकारी- 
(i)         किसी भी इमारत या स्थान, जहां उसे ऐसी किसी सम्पत्ति, दस्तावेज, रकम, स्वर्ण, आभूषण या अन्य मूल्यवान वस्तु के रखे जाने के सन्देह का कारण हो, वह प्रवेश कर सकेगा और तलाशी ले सकेगा.
(ii)       किसी ऐसे व्यक्ति की तलाशी ले सकेगा जिस पर कि स्वयं को छिपाने या किसी वस्तु को छिपाने का सन्देह हो. 
(iii)      वह उप नियम-(i) के अन्तर्गत प्राप्त शक्तियों के तहत ऐसा कोई भी दरवाजा, बक्सा, लॉकर, सेफ, आलमारी या अन्य पात्र धारक का ताला तोड़ सकेगा जिसकी चाबी उपलब्ध नहीं है. 
(iv)     ऐसी तलाशी में प्राप्त किसी सम्पत्ति, दस्तावेज, रकम, स्वर्ण, आभूषण या अन्य कीमती चीजों जब्त करे 
(v)       किसी भी सम्पत्ति या दस्तावेज पर पहचान के चिन्ह बनाए ताकि कोई उसे निकाल न सके अथवा उसकी नकल न कर सकें.
(vi)     ऐसी किसी भी सम्पत्ति, दस्तावेज, पैसे, स्वर्ण, आभूषण या अन्य मूल्यवान वस्तुओं या चीजों को सूचीबद्ध कर दर्ज किया जाएगा.

(2)   उपधारा (1) के तहत तलाशी एवं जब्ती में, यथासम्भव, अपराध प्रक्रिया संहिता, 1973 के सम्बन्धित प्रावधान लागू होंगे

(3)   उपधारा (1) के अधीन सभी उद्देश्यों के लिए जारी सभी वारण्ट, अपराध प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 93 के अधीन अदालत द्वारा जारी वारण्ट समझा जाएगा. 

10. साक्ष्य-
(1)   इस अधिनियम के प्रावधानों के अन्तर्गत किसी भी जांच के उद्देश्य से, (अगर कोई प्रारम्भिक जांच है, सहित) लोकपाल किसी भी सरकारी कर्मचारी या कोई अन्य व्यक्ति, जो उनकी राय में किसी जांच के लिए प्रासंगिक सूचना उपलब्ध कराने या दस्तावेज देने में सक्षम है, सूचना देने अथवा दस्तावेज़ प्रस्तुत कराने के लिए तलब कर सकेगा.

(2)   लोकपाल को नागरिक प्रक्रिया संहिता, 1908 के अन्तर्गत कोई याचिका दायर करते हुए, निम्नलिखित मामलों में, ऐसी किसी भी जांच के उद्देश्य से (आरम्भिक जांच सहित) वे सारी शक्तियां प्राप्त होंगी जो नागरिक प्रक्रिया संहिता, 1908 के अन्तर्गत किसी प्रकार का निपटारा करते हुए दीवानी न्यायालय को प्राप्त हैं - 
क.     किसी भी व्यक्ति को उपस्थित रहने के लिए बाध्य करने और उसे सम्मन जारी करने और उससे शपथ लेना;
ख.     किसी भी दस्तावेज की खोज एवं उसे प्रस्तुत करना
ग.      हलफनामे पर साक्ष्य प्राप्त करना;
घ.      किसी न्यायालय या कार्यालय से कोई सार्वजनिक रिकार्ड या उसकी प्रतिलिपि हासिल करना
ङ.      दस्तावेज या गवाह की जांच के के लिए आदेश जारी करना;
च.      गलत या अफसोसनाक दावा या रक्षा के आलोक में क्षतिपूर्ति भुगतान का आदेश;         
छ.     देरी के लिए हर्जाने का आदेश 
ज.     ऐसे अन्य मामले, जिन्हें निर्धारित किया जा सकता है

(3)   लोकपाल के सम्मुख कोई भी कार्रवाई भारतीय दण्ड संहिता की धारा 193 के अर्थ में एक न्यायिक कार्रवाई समझी जाएगी.

11. लोकपाल की रिपोर्ट इत्यादि-
(1)   लोकपाल के अध्यक्ष, प्रतिवर्ष, राष्ट्रपति को अपने कार्य निष्पादन पर, निर्धारित प्रारूप में प्रतिवेदन पेश करेंगे. 

(2)   राष्ट्रपति, प्रतिवेदन की प्रति, व्याख्यात्मक ज्ञापन देते हुए संसद के दोनों सदनों में रखवाएंगे.

(3)   लोकपाल हरेक महीने अपनी वेबसाइट पर ऐसे मामलों की एक सूची, संक्षिप्त विवरण, परिणाम एवं कृत अथवा प्रस्तावित कार्रवाई के विवरण के साथ प्रकाशित करेगा, इस वेबसाइट पर पिछले एक महीने में लोकपाल द्वारा प्राप्त मामलों की सूची, निपटाए गए, और लम्बित पड़े मामलों की सूची भी भी प्रकाशित की जाएगी.

12. लोकपाल एक मान्य पुलिस अधिकारी होगा
(1)   अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 36 के उद्देश्य के लिए, लोकपाल के अध्यक्ष, सदस्य और इसकी जांच शाखा के अधिकारियों को पुलिस अधिकारी माना जाएगा.

(2)   भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 के तहत किसी अपराध की छानबीन करते हुए वे उस मामले में किसी दूसरे कानून के अन्तर्गत किसी अपराध की जांच के लिए भी सक्षम होंगे.
  
13. आदेशों की अवज्ञा में लोकपाल की शक्ति-
(1)   लोकपाल के प्रत्येक आदेश में उन अधिकारियों का नाम पूरी तरह स्पष्ट किया जाएगा, जो उसे अमल में लाएंगे, आदेश के अमल में लाने की प्रक्रिया और उसके अनुपालन की समय सीमा का विवरण भी स्पष्ट दिया जाएगा. 

(2)   अगर लोकपाल के आदेश का क्रियान्वयन निर्धारित प्रक्रिया और समय सीमा के भीतर नहीं होता है तो लोकपाल अवमानना के दोषी अधिकारियों पर जुर्माना लगाने का निर्णय ले सकता है.

(3)   सम्बन्धित विभाग के आरेखण और संवितरण अधिकारी को, उपधारा (2) के तहत जारी आदेश में उल्लेखित, जुर्माना अधिकारियों के वेतन में से काटने का निर्देश दिया जाएगा. 
परन्तु जिन अधिकारियों पर जुर्माना लगेगा, उन्हें सुनवाई का एक मौका दिए बिना उनका वेतन नहीं कटेगा. यह भी कि अगर आरेखण और संवितरण अधिकारी इन अधिकारियों का वेतन काटने में असमर्थ होता है तो वह स्वंय ही इस दण्ड के लिए उत्तरदायी होगा.

(4)   अपने आदेश की अनुपालना कराने के लिए, लोकपाल के पास वे सभी अधिकार क्षेत्र, शक्तियां एवं अधिकार  होंगे जोकि उच्च न्यायालय के पास हैं, और लोकपाल अपनी अवमानना के सम्बन्ध में इनका प्रयोग कर सकेगा, और इस उद्देश्य के लिए न्यायालय की अवमानना अधिनियम १९७१ (1971 का केन्द्रीय अधिनियम 70) को संशोधित करते उच्च न्यायालय के लिए निहित सन्दर्भ में लोकपाल की अवमानना को भी शामिल किया जाता है. 

13क. भ्रष्टाचार अधिनियम की निवारण धारा 4 के तहत विशेष न्यायाधीश 
(1)   वार्षिक आधार पर, लोकपाल विशेष भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम 1988 की धारा 4 के तहत हर क्षेत्र में न्यायाधीशों की संख्या का आंकलन करेगा और सिफारिश के तीन महीने के भीतर ही सरकार उतनी ही संख्या में न्यायाधीशों की नियुक्ति करेगी. 
परन्तु यह भी कि लोकपाल विशेष न्यायाधीशों की उतनी ही संख्या की सिफारिश करेगा जितनी कि इस अधिनियम के तहत प्रत्येक मामले का निपटारा एक वर्ष के भीतर होने के लिए आवश्यक होंगी.

(2)    कोई नई नियुक्ति करने से पहले, सरकार, उम्मीदवारों की निष्ठा सुनिश्चित करने हेतु, चयन प्रक्रिया पर लोकपाल से परामर्श करेगी. सरकार उन सिफारिशों को लागू भी करेगी. 

13ख. अनुरोध पत्र जारी करना: लोकपाल की खण्डपीठ को लोकपाल में लम्बित किसी मामले में अनुरोध पत्र (एक न्यायाधीश को दूसरे न्यायाधीश द्वारा जारी किए जाना वाला) जारी करने का अधिकार होगा. 

13ग. भारतीय तार अधिनियम के तहत अधिकार: लोकपाल की खण्डपीठ, भारतीय तार अधिनियम की धारा 5 के तहत पदनामित प्राधिकरण मान्य होगी. इस पीठ को टेलीफोन, इण्टरनेट अथवा भारतीय तार अधिनियम तथा, सूचना और प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 तथा भारतीय तार अधिनियम 1885 के तहत जारी नियमावली के सहित, दायरे में आने वाले अन्य माध्यम इत्यादि पर संचरित सन्देशों, आकड़ों और आवाजों पर निगरानी रखने या उन्हें रोककर सुनने का अधिकार होगा. 

लोकपाल की कार्यप्रणाली
14. लोकपाल की कार्यप्रणाली:
(1)   अध्यक्ष लोकपाल की संस्था के समग्र प्रशासन और पर्यवेक्षण के लिए उत्तरदायी होगा.


(2)   नीति-नियम निर्धारण सहित लोकपाल के कामकाज के लिए आन्तरिक प्रणाली विकसित करने, लोकपाल में विभिन्न अधिकारियों को कार्य देने, लोकपाल में विभिन्न पदाधिकारियों को अधिकार देने जैसे कार्य लोकपाल के अध्यक्ष एवं सदस्यों द्वारा एक संस्था के तौर पर सामूहिक रूप से किए जाएंगे.

(3)   लोकपाल के अध्यक्ष की प्रधानमन्त्री के साथ वित्त और कर्मचारियों की जरूरत के आकलन के लिए वार्षिक बैठक होगी. इस बैठक में हुए निर्धारण के आधार पर सरकार द्वारा लोकपाल को संसाधन प्रदान कराए जाएंगे.

(3क) निर्धारित व्यय भारत के समेकित निधि से दिया जाएगा.

(3ख) लोकपाल के अध्यक्ष और सदस्य अपने कर्मचारियों की अखण्डता और सभी तरह की पूछताछ और जांच की अखण्डता सुनिश्चित करने के लिए हर सम्भव कदम उठाएंगे. इस उद्देश्य के लिए वे अयोग्य अथवा भ्रष्ट कर्मियों को त्वरित सज़ा देने हेतु नियम बनाने, काम का मानदण्ड निर्धारित करने, प्रक्रिया निर्धारित करने अथवा अन्य कोई कदम उठाने के लिए सक्षम होंगे. 

(3ग) लोकपाल के अध्यक्ष और सदस्य अधिनियम द्वारा सुनिश्चित समय सीमा का कड़ाई से पालन कराने के लिए ज़िम्मेदार होंगे और समुचित कदम उठाने के लिए सक्षम होगें.

(3घ) लोकपाल पूरी तरह से प्रशासनिक, वित्तीय और कार्यात्मक सहित सभी मामलों में सरकार के हस्तक्षेप से स्वतन्त्र होगा. 

(4)   लोकपाल तीन या अधिक सदस्यों की पीठ में कार्य करेगा. इस पीठ का गठन क्रमिक तरीके से होगा और उन्हें मामले कम्प्यूटर के द्वारा क्रमिक तरीके से सौंपे जाएंगे. प्रत्येक पीठ में कम से कम एक सदस्य विधिक पृष्ठभूमि वाला होगा. 

(5)   इन पीठों का दायित्व होगा : 
क.     कुछ विशिष्ट श्रेणी के मामलों में अभियोजन आरम्भ करने की अनुमति देना
ख.     अपने कर्मचारियों के खिलाफ शिकायत सुनना
ग.      लोकपाल के अधिकारियों द्वारा जांच अथवा सतर्कता के बन्द कर दिए मामले या लोकपाल द्वारा समय-समय पर निर्धारित की गई श्रेणी के, मामलों में अपील 
घ.      ऐसे अन्य आदेशों के लिए, जिनका निर्णय समय-समय पर लोकपाल द्वारा लिया जा सकता है.
परन्तु लोकपाल कि पूरी पीठ मापदण्ड बनाएगी कि किस तरह के मामले सदस्यों की पीठ देखेगी और कौन से मामलों का निर्णय मुख्य सतर्कता अधिकारी या सतर्कता अधिकारियों के स्तर पर होगा. ये मापदण्ड सरकार को हुए घाटे और/या जनता पर उसके असर और/या दोषी की स्थिति पर आधारित हो सकते हैं.
लोकपाल स्वत: जांच-पड़ताल करने का निर्णय ले सकता है.

(6)   कैबिनेट के किसी भी सदस्य के खिलाफ लोकपाल की पूरी पीठ जांच-पड़ताल या अभियोग शुरू कर सकती है.

(7)   इस अधिनियम के प्रावधान के अन्तर्गत कुछ मुद्दों पर लोकपाल की पूरी पीठ निर्णय लेगी. उस पीठ में कम से कम सात सदस्य होंगे.

(8)   लोकपाल की बैठक के कार्य विवरण और दस्तावेज सार्वजनिक होंगे. 

15. लोकपाल के पास शिकायत दर्ज कराना:
(1)   इस अधिनियम के प्रावधानों के अधीन, कोई भी व्यक्ति लोकपाल को इस अधिनियम के तहत शिकायत दर्ज करा सकता हैं.
बशर्ते इस शिकायत के मामले में, यदि व्यक्ति मर चुका है या किसी भी कारण से वह खुद यह कार्य करने में असमर्थ है, तो यह उस व्यक्ति के वैधानिक प्रतिनिधि या उसके द्वारा लिखित रूप से अधिकृत किसी अन्य व्यक्ति द्वारा शिकायत दर्ज कराई जा सकती है और यदि शिकायत हो चुकी है तो लिखित तौर अधिकृत प्रतिनिधि के द्वारा शिकायत को जारी रखा जा सकता हैं.
यह भी कि नागरिक अपनी शिकायत देश में कहीं भी लोकपाल के किसी भी कार्यालय में दर्ज करा सकते हैं. लोकपाल कार्यालय का यह कर्र्तव्य होगा कि वह अपने तहत किसी युक्तियुक्त  लोकपाल अधिकारी को शिकायत पत्र हस्तान्तरित कर दे. 
(2)   शिकायत किसी सादे कागज पर भी लिखकर दर्ज कराई जा सकती है परन्तु उसमें लोकपाल द्वारा निर्धारित सभी विवरण शामिल होने चाहिए. 
(2क) अपनी वार्षिक रिपोर्ट संसद में प्रस्तुत करने के बाद, भारत के नियन्त्रक एवं महालेखा परीक्षक ऐसे सभी मामलों को लोकपाल को अग्रेशित करेंगे, जो इस अधिनियम के अन्तर्गत आरोप निर्धारित करते हैं और लोकपाल उन पर इस अधिनियम के प्रावधानों के अनुरूप ही कार्य करेगा.
(3)   शिकायत प्राप्त होने पर, लोकपाल यह फैसला करेगा कि यह आरोप है या शिकायत या भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वाले की सुरक्षा के लिए अनुरोध है या दोनों का मिश्रण है या इससे कुछ अधिक है.
(4)   लोकपाल को हर शिकायत अनिवार्य तौर पर निपटानी होगी. 
परन्तु शिकायतकर्ता को सुनवाई का अवसर दिए बिना किसी शिकायत को बन्द नहीं किया जाएगा. 

16. लोकपाल द्वारा जिन मामलों की जांच की जा सकती है- इस अधिनियम के प्रावधानों के अधीन लोकपाल किसी ऐसे कार्य की जांच कर सकता है जो किसी लोकसेवक के द्वारा किया गया हो, अथवा उसकी सामान्य या विशिष्ट स्वीकृति से किया गया हो, जिसकी शिकायत की रिपोर्ट की गई हो अथवा ऐसे कार्य के बारे में कोई आरोप लगाया गया हो. 
परन्तु लोकपाल इस तरह के कार्य की स्वत: अथवा सरकार द्धारा कहे जाने पर भी जांच कर सकता है, यदि उसकी लिखित राय में ऐसे काम में कोई शिकायत या आरोप हो या होने की सम्भावना हो. 

17. वे मामले जो जांच के दायरे से बाहर होंगे 
(1)   लोकपाल, अधिनियम के अन्तर्गत निम्न कार्रवाई के सम्बन्ध में शिकायत के मामले में, कोई जांछ नहीं करेगा - 
क.     यदि शिकायतकर्ता के पास  किसी अन्य कानून द्वारा प्रदत्त किसी प्राधिकरण के सामने अपील, पुनरीक्षण, समीक्षा या किसी अन्य माध्यम से कोई निवारण है, या था और उसने उसका उपयोग नहीं किया है. 
ख.     न्यायिक व अर्द्ध न्यायिक निकायों द्वारा लिए गए निर्णय जब तक कि शिकायतकर्ता दुर्भावनापूर्ण होने का आरोप न लगाए.
ग.      यदि पूरी शिकायत तात्विक रूप में किसी न्यायालय या सक्षम न्याय अधिकार क्षेत्र की अर्ध- न्याययिक संस्था के समक्ष लम्बित है
घ.      ऐसी कोई शिकायत जहां इसे निपटान करने में अत्यधिक एवं अबोध्य विलम्ब हो.
(2)   इस अधिनियम में ऐसा कुछ भी नहीं है कि लोकपाल संसद के किसी सदन के पीठासीन अधिकारी की स्वीकृति लेने के बाद ही किसी कार्रवाई की जांच करेगा.
(3)   इस अनुच्छेद की कोई बात लोकपाल को कदाचार या भ्रष्टाचार या भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वाले की सुरक्षा के खिलाफ शिकायत दर्ज करने से नहीं रोक सकती है.

18. शिकायत और जांच से सम्बन्धित प्रावधान-
(1)           क. लोकपाल, किसी शिकायत, आरोप के रूप में प्राप्त किसी शिकायत अथवा दोनों, या स्वत: संज्ञान से उठाए गए किसी मामले में, दस्तावेज़ों को देखते हुए, जांच या पूछताछ की प्रक्रिया शुरू करने का निर्णय ले सकता है, या जांच और पूछताछ की प्रक्रिया की सुनवाई के पहले प्रारम्भिक जांच का निर्णय ले सकता है या किसी दूसरे व्यक्ति को प्रारम्भिक जांच करने का निर्देश दे सकता है ताकि किसी जांच के लिए उचित आधार है या नहीं यह तय किया जा सकें. प्राथमिक जांच के परिणाम आते ही इसकी जानकारी, और यदि मामले को बन्द करने का निर्णय लिया जाता है तो जांच के दौरान एकत्र की गई समस्त सामग्री शिकायकर्ता को उपलब्ध कराई जाएगी. 
             साथ ही यह भी कि यदि, किसी मामले को बन्द किया जाता है तो उससे सम्बन्धित सभी दस्तावेज सार्वजिनक माने जाएंगे. हर महीने, बन्द किए गए ऐसे मामलों की सूची, मामले को बन्द किए जाने के कारण सहित,  वेबसाइट पर डाली जाएगी. इस तरह बन्द किए गए मामलों से सम्बन्धित सारी सामग्री सूचना के अधिकार के कानून के तहत, जानकारी मांगने वाले किसी भी व्यक्ति को, उपलब्ध कराई जाएगी
             परन्तु साथ ही यह भी कि किसी भी शिकायत या आरोप को, शिकायतकर्ता के उद्देश्य अथवा प्रेरणा के आधार पर खारिज़ नहीं किया जा सकेगा. 
साथ ही यह भी कि, लोकपाल के समक्ष की गई सभी सुनवाइयों की वीडियो रिकार्डिंग होगी और किसी भी व्यक्ति को, प्रतियां बनाने के मूल्य अदा करने पर, उपलब्ध कराई जाएगी.

क.     किसी शिकायत की प्रारम्भिक जांच के लिए प्रक्रिया लोकपाल द्वारा मामले की परिस्थियों के आधार पर तय की जाएगी और यदि आवश्यक प्रतीत होता है तो लोकपाल सम्बन्धित लोक सेवक से टिप्पणी भी आमन्त्रित कर सकता है. 
परन्तु यह भी कि, प्राथमिक जांच पूरी करने और मुकदमे को बन्द करने या जांच के लिए आगे बढ़ाने का निर्णय शिकायत प्राओत करने के एक माह के अन्दर और निश्चित तौर पर तीन माह के अन्दर ले लिया जाएगा. यदि एक महीने में जांच पूरी नहीं हो पाती वहां जांच पूरी होने पर विलम्ब का कारण लिखित तौर पर दर्ज कर के सार्वजनिक किया जाएगा.

ख.     इस अधिनियम के तहत कोई भी शिकायत गुमनाम स्वीकार नहीं की जाएगी. शिकायतकर्ता  को लोकपाल के पास अपनी पहचान ज़ाहिर करनी होगी. तथापि यदि शिकायकर्ता चाहता है तो लोकपाल द्वारा उसकी पहचान गोपनीय रखी जाएगी. 

(2)  जहां लोकपाल सीधे सीधे या प्रारम्भिक जांच के बाद इस अधिनियम के अन्तर्गत जांच प्रस्तावित करता है, तो- 
क.     जरुरी समझने पर जांच से सम्बन्धित दस्तावेजों को सुरक्षित स्थान पर रखने का निर्देश दे सकता है. 
ख.     जांच के उचित चरण पर या खत्म होने पर, जांच रिपोर्ट की प्रति, उसके निष्कर्ष एवं निष्कर्ष से सम्बन्धित आधार सामिग्री की प्रति सम्बन्धित लोक सेवक और शिकायतकर्ता को अग्रेशित की जाएगी.  
ग.      सम्बन्धित लोक सेवक और शिकायतकर्ता को टिप्पणी और सुनवाई का मौका दिया जाएगा.  
साथ ही यह भी कि अति विशिष्ट परिस्थितियों को छोड़ कर ऐसी सुनवाई सार्वजनिक रूप से की जाएगी, और उसे लिखित तौर पर रिकार्ड किया जाएगा, जहां यह सार्वजनिक हित में नहीं है, न्याय के हित के लिए इसे कैमरे में रिकार्ड कर सार्वजनिक किया जाएगा.
(3)  इस अधिनियम के अन्तर्गत किसी कार्रवाई के सम्बन्ध में लोक सेवक के खिलाफ जांच करना उस कार्रवाई को, या जांच के अधीन किसी मामले के सम्बन्ध में आगे कोई कार्रवाई करने के लिए किसी अन्य लोक सेवक की शक्ति को प्रभावित नहीं करेगा. 
(4)   यदि इस अधिनियम के तहत प्रारम्भिक जांच के दौरान, लोकपाल प्रथम दृष्टया सन्तुष्ट है कि आरोपों या शिकायतों के परिप्रेक्ष्य में पूरी या आंशिक तौर पर किसी भी तरह की कार्रवाई की सम्भावना है तो वह एक अन्तरिम आदेश के माध्यम से, लोक प्राधिकरण को निर्णय या कार्रवाई के क्रियान्वयन या अमलीकरण पर रोक लगाने की सिफारिश कर सकता है, या ऐसे नियम व शर्तों पर वह बाध्यकारी या निवारक कार्रवाई कर सकता है, जो और ज्यादा नुकसान से रोकने के वह अपने आदेश में उल्लेखित करे. लोक प्राधिकरण इस उप अनुच्छेद के अन्तर्गत आदेश प्राप्त करने के 15 दिन के अन्दर लोकपाल की सिफारिशों पर या तो अमल करेगा या उन्हें नामंजुर करेगा. लोकपाल यदि आवश्यक समझे तो, लोक प्राधिकरण को उपयुक्त निर्देश देने की मांग करते हुए सम्बन्धित उच्च न्यायालय में जा सकता है. 
(5)   लोकपाल, यदि जांच के दौरान सन्तुष्ट होता है कि किसी मामले में अभियोग शुरू होने की सम्भावना है, या जांच की समाप्ति पर अभिय्ग शुरू करते समय, मामले में सभी आरोपियों की चल अचल सम्पित्ति की सूची बनाएगा और उसे अधिसूचित करेगा. अधिसूचना के पश्चात इस सम्पत्ति के हस्तान्तरण की अनुमति नहीं होगी. अन्तिम सजा की स्थिति में अदालत, अन्य उपायों के अलावा, इस अधिनियम की धारा 19 के अन्तर्गत, इस सम्पत्ति से भ्रष्टाचार के चलते हुई क्षति की वसूली कर सकता है. 
(6)   यदि शिकायतों की जांच और पूछताछ के दौरान, लोकपाल को लगता है कि सरकारी सेवक के पद पर बने रहना जांच या पूछताछ को प्रतिकूल ढंग से प्रभावित कर सकता है या वह सरकारी सेवक सबूतों को नष्ट या छेड़छाड़ या गवाहों को प्रभावित कर सकता है, तो लोकपाल उस सरकारी सेवक के स्थानान्तरण या निलम्बन की उपयुक्त सिफारिश जारी कर सकता है. लोक प्राधिकरण लोकपाल द्वारा की गई सिफारिश के मिलने के 15 दिन के भीतर इसे उप धारा के अन्तर्गत इसे मान भी सकता है या मना कर सकता है. यदि लोकपाल इसे महत्वपूर्ण मानता है तो वह सम्बन्धित उच्च न्यायालय में जा सकता है और लोक प्राधिकरण के लिए उपयुक्त निर्देश की मांग कर सकता है.
(7)   लोकपाल, इस अधिनियम के अन्तर्गत पूछताछ अथवा जांच के किसी भी चरण में, अन्तरिम आदेश के ज़रिए, सक्षम प्राधिकारों को आवश्यक कार्रवाई करने, पूछताछ या जांच रोकने का निर्देश दे सकता है-
क.     लोक सेवक के प्रशासनिक कार्य से सार्वजनिक राजस्व अपव्यय को रोकने या सार्वजनिक सम्पत्ति की क्षति के लिए
ख.     सरकारी सेवक के कार्यों में कदाचार को रोकने के लिए 
ग.      सरकारी सेवक द्वारा भ्रष्ट तरीके से अर्जित सम्पत्ति को छिपाने से रोकने के लिए,
इस उप अनुच्छेद के अन्तर्गत लोक प्राधिकरण आदेश प्राप्त करने के 15 दिन के भीतर इस पर अमल करेगा अन्यथा नामंजूर करेगा. यदि लोकपाल इसे महत्वपूर्ण समझे तो वह सम्बन्धित उच्च न्यायालय में जा सकता है और लोक प्राधिकरण के लिए उपयुक्त निर्देश की मांग कर सकता है.
(8)   जहां, शिकायत पर जांच के बाद, लोकपाल यह पाता है कि, मन्त्रियों, संसद सदस्यों एवं न्यायधीशों के अतिरिक्त, किसी लोक सेवक के खिलाफ शिकायत में शामिल आरोप की पुष्टि होती है और सम्बन्धित लोक सेवक को अपने पद पर कायम नहीं रहना चाहिए तो वह इस हेतु आदेश जारी कर सकता है, यदि लोकसेवक मन्त्री है तो लोकपाल राष्ट्रपति को ऐसी शिकायत करेगा. राष्ट्रपति द्वारा सिफारिश प्राओत करने के एक माह के अन्दर, उसे स्वीकार करने या नामंजूर करने का निर्णय लिया जाएगा.
परन्तु यह भी कि इस अनुच्छेद के प्रावधान प्रधानमन्त्री पर लागू नहीं होंगे.
(9)   लोकपाल के सभी रिकार्ड और सूचनाएं सूचना का अधिकार कानून के तहत सार्वजनिक किए जाएंगे. और यहां तक कि जांच व पूछताछ की स्थिति भी, जब तक कि उस सूचना के जारी करने से किसी जांच व पूछताछ की प्रक्रिया पर प्रतिकूल प्रभाव न पड़ता हो, उपलब्ध कराए जाएंगे.


भ्रष्टचार के चलते सरकार को होने वाले नुकसान की भरपाई और दण्ड

19. सरकार को होने वाले नुकसान की वसूली: भ्रष्टाचार निरोधक कानून 1988 की धारा 19 के तहत जब कोई व्यक्ति दोषी पाया जाता है, तब परीक्षण न्यायालय, सरकार को हुए नुकसान और दोषी द्वारा भ्रष्टाचार के माध्यम से अर्जित लाभ की गणना कर, इस तरह की कुल राशि को विभिन्न दोषियों के ऊपर आरोपित किया जाएगा और उनकी सम्पत्ति के ज़रिए वसूला जाएगा. 

19क. अपराध के लिए सज़ा भ्रष्टाचार निरोधक कानून की उपधारा 2 (4) और उपधारा 28ए के अध्याय iii में  विर्णत अपराध के लिए कम से कम एक वर्ष के सश्रम कारावास की सज़ा होगी और इसे उम्रकैद के तक भी बढ़ाया जा सकता है. 
दोषी व्यक्ति के सरकार में उच्च पद पर आसीन होने की स्थिति में यह सज़ा और भी कठोर हो सकती है. 
इसके अतिरिक्त, बशर्तें  कि, अपराध इस अधिनियम की उपधारा 2(4) के तहत विर्णत है और लाभार्थी एक व्यावसायिक इकाई है तो, इस अधिनियम में वर्णित एवं भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के अन्तर्गत अन्य सजा के अलावा जनता को हुए नुकसान का की पांच गुना राशि दोषी से जुर्माने के रूप में वसूली जाएगी,  अगर दोषी की सम्पत्ति अपर्याप्त है तो यह वसूली व्यावसायिक ईकाई और उसके निदेशकों की व्यक्तिगत सम्पत्ति से वसूली जा सकती है.

उच्च न्यायालय या उच्चतम न्यायालय के न्यायधीशों के खिलाफ शिकायतों का निपटान
19ख. हाईकोर्ट या सुप्रीमकोर्ट के जजों के खिलाफ शिकायतों की प्राप्ति व निपटाना:
(1)   हाईकोर्ट या सुप्रीमकोर्ट के जजों के खिलाफ किसी भी शिकायत को केवल लोकपाल अध्यक्ष ही देखे.
(2)   इस तरह की प्रत्येक शिकायत की प्रारम्भिक जांच होगी, जो प्रथम दृष्टया यह आकलन करेगी कि क्या भ्रष्टाचार निरोधक कानून के तहत पर्याप्त सबूत हैं. यह जांच लोकपाल के किसी एक सदस्य द्वारा की जाएगी, जो लोकपाल की पूर्ण पीठ के समक्ष इसे प्रस्तुत करेगा. परन्तु यह पूर्ण पीठ, विधिक पृष्टभूमि के कम से कम तीन कानूनी सदस्यों की होगी.
(3)   कोई भी मामला विधिक पृष्ठभूमि के सदस्यों के बहुमत वाली पूर्ण पीठ के अनुमोदन के बगैर पंजीकृत नहीं किया जाएगा.
(4)   इस तरह के मामलों की जांच एक विशेष टीम द्वारा होगी, जिसका नेतृत्व कम से कम पुलिस अधीक्षक स्तर का अधिकारी करेगा.
(5)   अभियोजन आरम्भ करने अथवा न करने का निर्णय भी, लोकपाल की विधिक पृष्ठभूमि के सदस्यों के बहुमत वाली पूर्ण पीठ के द्वारा ही लिया जाएगा.


भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वालों का संरक्षण:

20. भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वालों का संरक्षण:
(1)   भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वाला कोई व्यक्ति, यदि उसका व्यावसायिक या शारीरिक उत्पीड़न हो रहा हो या ऐसी धमकी दी गई हो तो   लोकपाल से सुरक्षा मांग सकता है,
(2)   इस तरह की कोई शिकायत मिलने पर लोकपाल निम्न कदम उठाएगा: 
क.     व्यावसायिक उत्पीड़न: उपयुक्त जांच के बाद अगर लोकपाल महसूस करता है कि इस अधिनियम के तहत आरोप लगाने के बाद भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज वाले को वास्तव में खतरा है तो वह यथाशीघ्र , लेकिन शिकायत मिलने के एक माह से अधिक नहीं, सक्षम अधिकारी को लोकपाल के निर्देशानुसार आवश्यक कदम उठाने का आदेश देगा. 
ख.     अगर भष्टाचार के विरूद्ध आवाज उठाने वाला शिकायत करता है कि इस अधिनियम के तहत आरोप लगाने के बाद उसका व्यावसायिक उत्पीड़न हुआ है अथवा उसे पेशेगत रूप से नुकसान पहुंचाया गया है और जांच के बाद लोकपाल की यह राय बनती है कि सूचनादाता को वास्तव में नुकसान पहुंचाया गया है तो यथाशीघ्र, लेकिन शिकायत मिलने के एक माह से अधिक नहीं, युक्तियुक्त अधिकारी को लोकपाल के निर्देशानुसार आवश्यक कार्रवाई करने का आदेश देगा. 
प्रावधान (क) के तहत लोकपाल धमकी देने वाले या नुकसान पहुंचाने वाले सरकारी अधिकारी के विरुद्ध सुसंगत नियमों के तहत उचित दण्ड का आदेश निर्गत कर सकता है लेकिन प्रावधान (ख) के तहत निश्चित रूप से ऐसा करेगा.
परन्तु प्रभावित सरकारी सेवक को अपना पक्ष रखने का एक अवसर उपलब्ध कराए बिना दंड़ का निर्धारण नहीं किया जा सकेगा. 
ग.      शारीरिक नुकसान की धमकी: लोकपाल, युक्तियुक्त जांच कराएगा और अगर उसे लगे कि वास्तव में धमकी दी गई है और यह धमकी इस अधिनियम के तहत आरोपण या सूचना के अधिकार के तहत आवेदन करने के वजह से दी गई है, तो किसी भी अन्य कानून के बावजूद लोकपाल अधिकतम एक सप्ताह के अन्दर उपयुक्त अधिकारी के साथ पुलिस को उक्त व्यक्ति को उचित सुरक्षा उपलब्ध कराने के साथ, धमकी देने वालों के विरुद्ध आपराधिक मुकदमा दर्ज कर आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश देगा.      
अगर धमकी गम्भीर एवं सिन्नकट है तो लोकपाल तत्काल कार्रवाई करते हुए, कुछ घण्टों के अन्दर उक्त व्यक्ति को शारीरिक हमले से बचाने का उपाय करेगा. अगर शिकायतकर्ता अध्यक्ष या किसी सदस्य से मिलना चाहता है तो वह उनसे फोन या वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बात करने या व्यक्तिगत रूप से मिलने के लिए अधिकृत होगा.   
ग.      यदि कोई व्यक्ति शिकायत करता है कि इस अधिनियम के अन्तर्गत आरोप लगाने की वजह से उस पर शारीरिक हमला हुआ है और लोकपाल जांच के बाद इस बात से आश्वस्त होता है कि उस व्यक्ति पर इस अधिनियम के तहत आरोपण या सूचना के अधिकार के तहत आवेदन करने की वजह से हमला हुआ है, तो किसी भी अन्य कानून के बावजूद, लोकपाल ,यथाशीघ्र लेकिन अधिक से अधिक 24 घण्टे के अन्दर सम्बन्धित अधिकारियों को - उक्त व्यक्ति को उचित सुरक्षा उपलब्ध कराने, हमलावरों के विरुद्ध आपराधिक मुकदमा दर्ज कराने के साथ साथ यह भी सुनिश्चित करने कि उस व्यक्ति के साथ दोबारा इस तरह की घटना न होके आदेश जारी करेगा. अगर शिकायतकर्ता अध्यक्ष या किसी सदस्य से मिलना चाहता है तो वह उनसे फोन या वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बात करने या व्यक्तिगत रूप से मिलने के लिए अधिकृत होगा.
(घ क) अगर भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने वाला कोई व्यक्ति आरोप लगाता है कि इस अधिनियम के तहत आरोपण या सूचना के अधिकार अधिनियम के इस्तेमाल की वजह से उसके खिलाफ पुलिस या किसी प्राधिकारी ने मामला दर्ज कराया है या मामला दर्ज कराने का उपक्रम किया जा रहा है तो लोकपाल जांच के आधार पर उपयुक्त अधिकारियों को ऐसा मामला वापस लेने का आदेश निर्गत कर सकता है.
(घ ख) शारीरिक नुकसान की धमकी के मामले में या कोई ऐसा व्यक्ति जिस पर हमला हुआ है, देश में कहीं भी लोकपाल के कार्यालय में शिकायत कर सकता है और लोकपाल कार्यालय का यह कर्र्तव्य होगा कि वह उस शिकायत को तत्काल लोकपाल के उपयुक्त अधिकारी तक पहुंचा दे.  
(घ ग) लोकपाल भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने वाले को सुरक्षा प्रदान करने का उत्तरदायित्व अपने अधीन किसी सतर्कता अधिकारी को सौंप सकता है और इस मामले में उस अधिकारी को यह अधिकार होगा कि वह उपयुक्त प्राधिकारी जिसमें पुलिस भी शामिल होगी, को उक्त भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने वाले की सुरक्षा सुनिश्चित कराने के लिए आवश्यक कदम उठाने का निर्देश दे सकता है.    
(घ घ) अगर लोकपाल के पास शिकायत के बाद किसी व्यक्ति पर हमला किया जाता है तो लोकपाल के सम्बन्धित अधिकारी को कर्र्तव्य का निर्वहन न कर पाने या मिलीभगत या दोनों का दोषी ठहराया जाएगा, जब तक वह इसकी पुष्टि नहीं कर देता कि उसने अपनी ओर से कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है.    
घ.      अगर भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने वाला व्यक्ति भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत दण्डनीय किसी कृत्या का आरोप लगाता है तो लोकपाल प्रावधान (ग) के मामले के तहत आरोपों की जांच के लिए एक विशेष दल का गठन कर सकता है जो प्राथमिकता के आधार पर एक महीने के भीतर मामले की जांच पूरा करेगा और प्रावधान (घ) के मामलों के तहत निश्चित रूप से ऐसा करेगा.
ङ.      अगर भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वाला कोई ऐसा आरोप लगाता है जो भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम से अलग किसी अन्य कानून के तहत दण्डनीय है, तो प्रावधान (ग) के अधीन आने वाले मामले में लोकपाल उस ऐजेंसी, जिसके पास उस कानून को लागू करने का अधिकार है, को सूचनादाता के अरोपों की जांच के लिए विशेष दल बनाने और प्राथमिकता के आधार पर लोकपाल द्वारा निर्धारित समय सीमा के भीतर जांच पूरी करने का निर्देश दे सकता है और प्रावधान (घ) के अधीन आने वाले मामले में लोकपाल निश्चित रूप से ऐसा करेगा.
च.      उपनियम (छ) के अधीन आने वाले मामलों में लोकपाल को उपयुक्त ऐजेंसी को इस तरह की जांच की निगरानी करने और अगर जरूरी हुआ तो लोकपाल के निर्देश के अनुरूप ऐजेंसी को खुद जांच करने का निर्देश जारी करने का अधिकार होगा. 
छ.     भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने वाला, जिसे शारीरिक नुकसान पहुंचाने की धमकी दी गई है या उसे वास्तविक रूप से नुकसान पहुंचाया गया है, सीधे लोकपाल के अध्यक्ष से मिल सकता है और अध्यक्ष 24 घण्टे के भीतर उससे मिलेंगे और अधिनियम के प्रावधानों के मुताबिक उचित कर्रवाई करेंगे.
(3) अगर कोई शिकायतकर्ता अनुरोध करता है कि उसकी पहचान गुप्त रखी जाए तो लोकपाल ऐसा सुनिश्चित करेगा. लोकपाल इस बारे में विस्तृत प्रक्रिया निर्धारित करेगा कि इस तरह की शिकायतों को कैसे आगे बढ़ाया जाएगा. 
(4) लोकपाल जुल्म की पुनरावृत्ति रोकने के लिए लोक प्राधिकारियों को नीतियों और प्रक्रिया में आवश्यक परिवर्तन का आदेश निर्गत करेगा.
(5) लोकपाल भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने वालों से शिकायत की प्राप्ति और निपटान के लिए उपयुक्त नियम बनाएगा.

जन लोकपाल कानून (भाग-2) पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे


271 comments:

  1. Thanks for Hindi Translation. I fully support Jan Lokpal.

    ReplyDelete
  2. Thanks for publishing hindi version of Jan Lokpal Bill. Provisions are very much useful & needed to stop corruption but I like to request you pl. provide in PDF form to print and circulate through our newspaper.

    ReplyDelete
  3. हिंदी में वेबसाइट उपलब्ध करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद. प्रस्तुत लोकपाल बिल का शत प्रतिशत समर्थन.

    ReplyDelete
  4. हिंदी में वेबसाइट उपलब्ध करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद. प्रस्तुत लोकपाल बिल का शत प्रतिशत समर्थन.

    ReplyDelete
  5. meri taraf se anna ji ko poora samrthan h..

    ReplyDelete
  6. nice work. God may bless you. God may bless India.

    ReplyDelete
  7. aaj ek baar fir se sabhi hindustani bhai-bahano ko ikktha hone ki zarurat hai....
    vande matram.

    ReplyDelete
  8. Raaj sahi kaha apne
    vande matram

    ReplyDelete
  9. bharat ke liye uthaye gye is kadam me ham apke sath hai.

    ReplyDelete
  10. We support you, you are working for young generation. please apply better planning to fight against below ghost;
    1. Bureaucrats
    2. judiciary
    3. Politician

    ReplyDelete
  11. Can you publish this जन लोकपाल कानून वर्जन 2.2 in Marathi version ?

    ReplyDelete
  12. 100% support to Jan Lok Pal Bill
    Santosh Kumar Tripathy
    Kolkata

    ReplyDelete
  13. full supprt to jn lok pal bill
    Narendra Kumar Patel
    siddharth nagar u.p.

    ReplyDelete
  14. sir,,it's very good. i fully support anna and request others to support anna.

    ReplyDelete
  15. Samaya ki mang hai yah jan lokpal bill. Ham is jan lok pal bill ka hirdaya se samarthan karte hai.
    Rajendra sahu DOVA Fatehpur U.P.

    ReplyDelete
  16. IT IS POWERFUL TO STOP CORRUPTION . BUT VERY FEW PEOPLE KNOW THE DETAIL OF LOKPAL DRAFT . HINDI VERSION MAY HELP THE WORK CLASS PEOPLE TO KNOW HOW THEY WILL GET RID FROM CORRUPTION. IT IS GREAT WORK.FULL SUPPORT TO YOU ANNAJI.

    ReplyDelete
  17. sir, yeh to ek kranti ki suruvat hai bahut strong bill hai ye.

    ise sansad main pass hona hi chahiye
    anna ji hum apke sath hai jarurat padi to iske liye jan bhi de denge. taki aane wali pedi to achi tarah bhrastacharya mukt samaj main jee sake.
    jai hind.

    ReplyDelete
  18. sir iske hum chahte hai ki gorakhpur ke sansad maniniya yogi adityanath ji apni taraf se pahal karen aur pure purvanchal ki taraf se anna ji ke janandolan ko majbooti pradan kare.
    kyonki pura hindustan is corruption se pareshan hai. yogi ji aap sabhi party tatha sabhi cheezo se upar uthkar iska samarthan karen.

    ReplyDelete
  19. full support to jan lokpal bill from my side...

    ReplyDelete
  20. mera lokpal bill ko tan man dhan se pura samarthhan hai. main es sansatha se judana chahata hun. mera naam narendra kumar gupta (munim ji) moh. afganan naer peer ki chungi nehtaur (bijnor) u.p. pin code 246733 aur mare id ngnkgupta07@gmail.com

    ReplyDelete
  21. anna ji apki muhim ane wali piddi ke liye swarnim bharat ke nirman ki muhim hai--
    shayad ghandhiji ke adhure kam ap pure karne aye hai - jai hind jai bharati,

    ReplyDelete
  22. anna ji hum apke sath hai agar hum in sansado ko 5 sal ke liye sansad main bhej sakte hai to inhe samay se pahle janandolan dwara hata bhi sakte hai. kyon nahi janta ke pas koi option hai ki agar hamare numande sahi kam nahi kar rahe ho to samay se pahle inko hatane ka pravdhan ho. ye apni manmani karte rahe aur hum sirf inko jhelte rahe, nahi ab aisa nahi hoga. ab hume jagna hoga jo hum 64 saal se so rahe hai. apni antaratma ko jagna hoga.
    anna ji ke janandolan ko pora samarthan hai hamara hum gorakhpurvashio tatha pure hindustan ki taraf se apke dwara kal ka suraj ek naye samaj ka srijan karega. par hume ahisntatmak tarike se hi moovement ko aage badana hoga aaj desh hamse qurbani chahta hai aur hum isme peeche nahi hatenge.
    jai hind jai bharat.
    15 aug 2011

    ReplyDelete
  23. bhrastachar khat ho pahe jaise bhi ho.

    dinbandhu choudhary
    JAMSHEDPUR
    JHARKHAND
    ADHARSHNAGAR
    SONARI
    831011

    ReplyDelete
  24. hello blog owner
    u hav only 2 option english & hindi i am request u plz add 1 extra option for marathi
    plz translate in marathi

    ReplyDelete
  25. ITS GOOD FOR INDIA
    JAI HIND
    CORRUPTION KHATM KARO

    ReplyDelete
  26. Its better for india
    i am thankful Mr.Anna Hazare ji for activated me and other pepole.
    Ham Aap k Sath hai.

    Jai hind

    Sourabh gautam

    ReplyDelete
  27. jai hind m with ANNA till my death

    ReplyDelete
  28. HAM APKE SATH HE ANNAJI........

    IS SARKAR KO JUKNAHI HOGA .....

    APP...GANDHIJI KA DUSRA AVATAR HO ANNAJI....

    ReplyDelete
  29. kya hoga agar lokpal k office bhi corrept officer's se mil jaye jese police choro se riswat leti he??

    ReplyDelete
  30. I READ THE OVERALL DRAFT... !

    I'm agreed with the facts, But at the same time... Indian Law should also keeps its vital role as our national judicature.

    ReplyDelete
  31. Anna ji apko salam hai. hum aapke saath hain.

    Muneer A. Khan
    U.P.

    ReplyDelete
  32. we prople every time elect almost same face for parliament and state assembly of either party and those become ministers when their respective party becomes part of Government.

    "
    1-koi kahta hai ki agar mai Railway Minister hoon to mere baad meri hi party ka member next railway minister hoga...

    2-in 2004 parliament election a, ek bade neta ji se (jinki party ke 9-10 log sansad pahunch jate hain) Ques kiya gaya ki aap sarkar ko support karenge ya vipaksh me rahenge, to neta ji kaha-"hum to sarkar ke andar ke log hain."
    ye hamari hi galti hai ki hum log har bar same repeated face elect karte hain ki jo sirf ministers banne ke liye hi Government ko support karte hain.

    so dear young friends mai kahna chahata hoon ki kyon na hum sabhi next 2014 parliyament election me sirf ek bar virodh ke taur par 2014 parliyament election me vote na dekar aise leaders ko elect karne se bache aur un logo ko message de dein ki aapko vate tabhi denge jab aap ye promise karenge ki saansad banne ke baad aap har sansad session gap me constituency mein visit karnge aur sansad nidhi ka poora piasa region ke people ki sewa mein kharach karenge aur kharach ka poora hisab bhi sarvajanik karnge

    ReplyDelete
  33. To Become a corruption free India
    Support ANNA....

    I M WITH U ANNA

    ReplyDelete
  34. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  35. ANNA is a great person
    he fight to government for Indian people
    i support ANNA.............

    ReplyDelete
  36. shri annaji.
    agar jan lokpal bill lagu ho jaye. to nishchit rup se bhrashtachariyo(neta aur afasarshah) ki halat kharab honi hai.

    ReplyDelete
  37. Great work Anna Ji and team.
    I am with you,
    Jai Hind.......

    ReplyDelete
  38. ANNA nad kula!, lokpal bill ahe tumc maja purn patimba ahe tumala Jai Hind

    ReplyDelete
  39. Anna nahi ye Aandhi hai
    Ye Desh ka dusra Gandhi hai

    ReplyDelete
  40. after some time every one will be anna

    ReplyDelete
  41. anna ji hum apke sath hai agar hum in sansado ko 5 sal ke liye sansad main bhej sakte hai to inhe samay se pahle janandolan dwara hata bhi sakte hai. kyon nahi janta ke pas koi option hai ki agar hamare numande sahi kam nahi kar rahe ho to samay se pahle inko hatane ka pravdhan ho. ye apni manmani karte rahe aur hum sirf inko jhelte rahe, nahi ab aisa nahi hoga. ab hume jagna hoga jo hum 64 saal se so rahe hai. apni antaratma ko jagna hoga.
    anna ji ke janandolan ko pora samarthan hai hamara hum gorakhpurvashio tatha pure hindustan ki taraf se apke dwara kal ka suraj ek naye samaj ka srijan karega. par hume ahisntatmak tarike se hi moovement ko aage badana hoga aaj desh hamse qurbani chahta hai aur hum isme peeche nahi hatenge.
    jai hind jai bharat.

    ReplyDelete
  42. annaji aap ek aandhi hai jo powerfull janlokpal bill la kar sabhi bhrasth BHARAT ke gaddaro ko jail bhejo ya desh se bahar.HUM AAP KE SAATH HAI jAI HINA ,JAI BHARAT,VANDE MATRAM.

    ReplyDelete
  43. आज से ६४ साल पहले देश अंग्रेजों का गुलाम था लेकिन अब देश भ्रष्टाचार का गुलाम हो गया है .

    "अन्ना आप संघर्ष करो हम आपके साथ हैं"

    || वन्दे मातरम ||

    ReplyDelete
  44. Hum Anna Hazare Ke Shat Hai.

    Jai Bharat.
    Vande Mataram.

    ReplyDelete
  45. Be stable AnnaJi

    Vande Mataram

    ReplyDelete
  46. आज अगर चूक गए तो ये मौका फिर नही मिलेगा.

    shashank jain
    chhatarpur

    ReplyDelete
  47. The only reason of our freedom was our unity, we got freedom because of unity, if we want to sustain the freedom of living curreptionor terrisom free life we shall never give up our unity under any circumstance.
    No matter what our so called leaders say we shall do what is best for the country.

    ReplyDelete
  48. main jan lokpal ke samarthan me nahi hu ,kyoki jab desh ke 120 krore ki abadi se chunkar aaye mp corupt ho sakte hai to lokpal ke member kyo nahi,jinhe aam janta ke vote ke bina chuna jayega.aur janlokpal aam admi ka sevak na hokar raja ban jayega yadi use sabki jaanch karne ki shakti mil gayi,phir to rajtantra hi havi ho jayega aur prajatantra samapt ho jayega.

    ReplyDelete
  49. I sapport to Anna Hazare
    "अन्ना आप संघर्ष करो हम आपके साथ हैं"

    || वन्दे मातरम ||

    Suresh Chndra Yadav Tajoopur Jaunpur U.P

    ReplyDelete
  50. Please support to Anna Hazare to against corruptions.

    Jai Hind Jai Bharat Vandematram.

    Suresh Chandra Yadav (Tajoopur Khuthan) Jaunpur U.P

    ReplyDelete
  51. For corruption free India
    Support ANNA....
    Anna nahi ye Aandhi hai
    Ye Desh ka dusra Gandhi hai.

    ReplyDelete
  52. Full Support to JAN LOKPAL bill from my side...
    I AM READ...
    DO YOU READY...?

    Jai Hind...
    jai Bharat...
    Vande Matram...

    Anil kumar Gupta, Varanasi, U.P.

    ReplyDelete
  53. Bhrashtachar ki shuruwat karne wale hum hi hain, apna kaam aasani se nikalwalne ke liye thode jyada paise dene me hume koi harz nhi lagta. aur ab wahi system ban chuka hai. Rishwat lena sarkari officers ab apna hak samajhte hai.jinke pass paise hain wo de dete hain lekin in sabki wajah se garib aur lower middle class ko bhi yahi sab jhelna padta hai. Govnt.job ke liye saare exams clear karne k baad bhi joining ke liye paise dene padte hain aur log dete bhi hai, Kyon??? kyunki hum nhi denge to koi aur dega aur hamare hath se ye job chali jayegi. Govt. hospital me ward boy se lekar doctor tak paise khate aap paise khilao nurse aap ka dhayn rakhe gi nhi to nhi. har roz injection lagana jo unki duty hai uske bhi paise dene pdte hain, yaha tak ki aap ko discharge ke papers bhi tabhi milenge jab unhe chai pani ke naam pe paise do.
    Agar hum sab(Hum me se har ek) ye than le ki kuchbi ho jaye hum rishwat nhi denge to bhala ye kaise lenge. inhe rishwat khane ki aadat bhi to humne hi daali hai.
    Jan lokpal ko support karne ke saath hame ye bhi pran karna chahiye ki kuch bhi ho jaye hum rishwat nhi denge.

    Jai Hind !!!

    ReplyDelete
  54. Full support to the bill
    (The hindi web site really helps a lot to understand : and make other understand : the real things)

    THANK YOU

    ReplyDelete
  55. i support lokpal,it's, this bill should be present in parliament we all must support

    ReplyDelete
  56. anna ji aap aage badho ham aap ke sath hai

    ReplyDelete
  57. bharat ke liye uthaye gye is kadam me ham apke sath hai.

    ReplyDelete
  58. Respected Anna ji and other team members,

    In present situation you really brilliant job. Main aap logo ko salam karta hoo.. Yeh jung yahi nahi roki jani chahiye balki corruption ke aage Education aur Health jese issues par bhi aandolan chalne ki jarurat hai...
    We people of india will support this movement.
    Yogendra (Rajasthan)

    ReplyDelete
  59. CORRUPTION KHATM KARO
    Hum Anna Hazare Ke Shat Hai


    || वन्दे मातरम ||

    ReplyDelete
  60. WE NEED A CORRUPTION FREE INDIA.....

    YE BILL PASS HOKAR RAHEGA....

    "अन्ना आप संघर्ष करो हम आपके साथ हैं"

    || वन्दे मातरम ||

    ReplyDelete
  61. sir, yeh to ek kranti ki suruvat hai

    ise sansad main pass hona hi chahiye
    anna ji hum apke sath hai jarurat padi to iske liye jan bhi de denge. taki aane wali pedi to Akachi tarah bhrastacharya mukkt samaj main jee sake.
    jai hind. ranjeet..

    ReplyDelete
  62. anna aapko salaam...hum yuva aapko aage ye kehte he is desh me vyakti ko khrida aur becha jata he to hum chahte he hamari aane vali pidhi jo he usse lad sake uske liye ek thos shiksan (education system)pranali is desh ko dena he ...jay hind

    ReplyDelete
  63. anna aap abhi gujarat me vaapas aavo nahi to developement (vikash)nam ka jo rakshas he vo gujarat ko kha jaye ga...farmers ki jamin leli jati he...industries ko puri sahyata government deti he ...local ko(jiski jamin gayi he) use nokri nahi dii jati...gujarat ka vikash to hua lekin gujarat k logo ka vikash nahi hua..15saal se ek hi jagh par mere kai gaon vale kam karte he lekin parmanent employer dusri jagah se laate he wo 50,000salary lete he aur hum aaj b 5000 me kam karte he...ek aasha aapne jagayi he aapko salaaam aap kuch achha karenge...jay hind

    ReplyDelete
  64. "अन्ना आप संघर्ष करो हम आपके साथ हैं"

    || वन्दे मातरम ||

    ReplyDelete
  65. Jailer to KASAB :
    Why are you so happy ??
    KASAB : I am not Indian,I hate
    India and killed Indians,but I am
    sure that I am SAFE in India..
    .........Journalist to ANNA HAZARE : Why
    are you so sad ?
    .........ANNA : I am Indian,I love my
    India and Indians,but I am not sure
    when I will be KILLED..
    *Thats our INDIA
    Copy this as your Status Messages
    Hope to see Corruption Less India
    in future...
    this is our india ...incredible india..& that is why we proud our nation..??

    ReplyDelete
  66. ANNA JI APA JOA BHI KAM KARRAHE HAI BOA KABILE TARIF HAI APA KO MERI TARF SE KOTEI KOTEI PYAR APA HAMRE TAQUT HOA IDLE HOA ILOVE YOU ANNA JI KHABIBHI APA AKLE NAHI SAMJHNA HUM APKE SATHA HAI BHAGBAN BHI AP ESKA MEBA DENGE

    ReplyDelete
  67. anna ji apka jo jan lokpal bill h ye bahut he sahe 1 rasta h es corruption ko hatane ka or mitane ka, me to dil se apke sath hu jb bulaoge me hajir hu es jan lokpal bill ko lane ke liye apni jan tak laga duga. (jai hind0

    ReplyDelete
  68. Ruko mat sir ........lokpal ka m 100% support karta ho....

    ReplyDelete
  69. I give my fully support for any action to stop corruption. So once again we need voice against corruption................Jai Hind

    ReplyDelete
  70. chandrabhusan yadav
    Anna ji aap sangharsh karo hum apke saath hai . i give my full support with u ! aaj maine 500 copies jan lok pal bill ki logo me baanti hai. chandrabhusan47@rediffmail.com
    Jai Hind

    ReplyDelete
  71. anna nhi ye aandhi hai des ka dusra gandghi hai
    II jai hind II
    II jai bharat Mata ki II

    ReplyDelete
  72. anna tum sanghash kro hum tumare saath hai

    ReplyDelete
  73. Anna ji aapky sangharsh ky liye aapko salaam. Aaj ky yug ky Gandhi ho aap, ek dushri azadi ki ladai mein hum aapky saath hain "Jai Hind"

    ReplyDelete
  74. we all support you anna ji

    jai hind

    ReplyDelete
  75. This is best Judiciary ever I realize. But I want to say something about Governmental service recruitment. There must have been able person. So you should consider MERIT.

    ReplyDelete
  76. jai hind janlokpal bill pass hona hi chhahiye

    ReplyDelete
  77. annaji apko pranam jai bharat mata ki ham apko sampurn sapport karate he tan man dhan se vande matram

    ReplyDelete
  78. agar bhrashtachar kam nahi hua to desh nasht ho jayega jiske jimmedar sirf hum honge, anna ap age bade hum apake sath hi

    ReplyDelete
  79. Good attempt to curb the corruption in the nation it will hardly matter if the PM is included in the Jan lokpal to the common people as we are regularly see how our present PM is doing with a tag of honesty . All is OK if not attacked by opposition Party Or By The Supreme court but we are help less to watch these politician to turn the all matter without any problem according to their benefit.I hope this Lokpal will check on them to br honest to the nation.

    ReplyDelete
  80. annaji apko pranam jai bharat mata ki ham apko sampurn sapport karate he tan man dhan se vande matram thirth guru pushkar raj or jagat pita brahma se prarthana karate he ki sarkar ko sadbudhi de jis se jan lokpal bil parit kare or sabhi ka or desh ka uddhar ho pushkar se- saspurn pushkar vasi, shri brahma gayatri thirth vikas sansthan, or sare thirth purohitgan jai hind

    ReplyDelete
  81. We should be thankful to Anna Hazare(Today's Gandhi) who is fighting for our future. He have nothing in his bag except the overwhelming support which he is getting from accross the country.

    We also spreading awareness for Jan Lokpal. Here is one video of Arvind Kejriwal explaining main points of this Bill. Please must have a look if you are not aware of this bill

    http://www.supportlokpal.com

    Support Lokpal Team

    ReplyDelete
  82. THANKS YUVA SAKTI KO JAGANE K LIYE DESH KA YUVA AAPKE SATH HAI

    ReplyDelete
  83. मैं जन लोक पाल बिल के समर्थन में जी जान से जुडना चाहता हूँ , जय हिंद , जय भारत , जय भारती , पुरुषोत्तम अग्रवाल जांजगीर छत्तीसगढ़

    ReplyDelete
  84. Anna ham tumhare sath hai...

    # Mrs. GAnga (Gauri seva sangham...)

    We all members of this society support ur cause..

    ReplyDelete
  85. ANAA JI AAPNE OR AAPKI TEAM JO BHRASTACHAR MITANE KA SAD-SANKALP LIYA HE USME HUM SABHI AAPKE SAATH HE, ME AAPKO OR AAPKI TEAM KO PRANAM KARTA HU,OR GOMATA SE PRARTHNA KARTA HU KI JALD SE JALD KATHOR-LOKPAL BILL PARIT HO, JAI HIND,JAI BHARAT,VANDEMATRAM, AAP SABHI KO RAM RAM JAI GOMATA-JAI GOPAL, ""VANDEDHENURMATRAM""

    ReplyDelete
  86. WE NEED A CORRUPTION FREE INDIA.....

    YE BILL PASS HOKAR RAHEGA....

    Anna ham tumhare sath hai...

    ReplyDelete
  87. anna ji hum apke sath hai agar hum in sansado ko 5 sal ke liye sansad main bhej sakte hai to inhe samay se pahle janandolan dwara hata bhi sakte hai. kyon nahi janta ke pas koi option hai ki agar hamare numande sahi kam nahi kar rahe ho to samay se pahle inko hatane ka pravdhan ho. ye apni manmani karte rahe aur hum sirf inko jhelte rahe, nahi ab aisa nahi hoga. ab hume jagna hoga jo hum 64 saal se so rahe hai. apni antaratma ko jagna hoga.
    anna ji ke janandolan ko pora samarthan hai hamara hum gorakhpurvashio tatha pure hindustan ki taraf se apke dwara kal ka suraj ek naye samaj ka srijan karega. par hume ahisntatmak tarike se hi moovement ko aage badana hoga aaj desh hamse qurbani chahta hai aur hum isme peeche nahi hatenge.
    jai hind jai bharat.

    Arpana Singh.
    Lucknow,
    Uttar Pradesh

    ReplyDelete
  88. JAN LOK PAL BILL is very good or strong more than govt. JOK PAL BILL & i am fully support to mr anna hazarey who lead india against corruption

    " VANDE MATRAM"

    ReplyDelete
  89. कानून और नियम सबके लिए एक है ऐसा हम मानते है ,उसीतरह उन नियमो का कोई उलंघन करे तो सजा भी सबके लिए एक है .
    अगर ये बाते सही है तो फिर प्रधानमंत्री जन लोकपाल से बाहर क्यों , वो भी तो भारतीय नागरिक ही है .फिर वो औरो से अलग कैसे ?
    उन्हें भी जन लोकपाल बिल के दायरे में होना चाहिए !

    ReplyDelete
  90. o yaro anna bula leya.......
    corruption ke rawan ko khatam karne ke leya ramlilla me challo or anna team ko support karo
    karke dheko.......
    accha legta hai..
    we love india .we love anna
    we are with anna and you??????????????????????

    ReplyDelete
  91. anna hajare aap sanghars karo hum apke sath hai
    anna hajare jindabad

    ReplyDelete
  92. ann nahi yee aandhi hai.
    janlokpal ka gandhi hai.

    pl support anna.

    ReplyDelete
  93. ‎!!!==--..__..-=-._;
    !!!==--..@..-=-._;
    !!!==--..__..-=-._;
    !!
    !!
    !!

    Hats of to u Anna .......

    सारे जहाँ से अच्छा ये हिंदुस्तान हमारा,
    हम बुल - बुले हैं इसके ये गुलसितां हमारा,

    ना सर झुका है कभी और ना झुकायेंगे कभी
    जो अपने दम पे जियें सच में जिंदगी है वही

    Live like a true INDIAN
    East or West India is the Best ........

    U r great Anna ..

    ReplyDelete
  94. ann nahi yee aandhi hai.
    janlokpal ka gandhi hai.

    pl support anna.

    ARPANA SINGH
    LUCKNOW
    UP.

    ReplyDelete
  95. Jai hind Jai Bhart Jai ANNA
    anna ji hum apke sath hai agar hum in sansado ko 5 sal ke liye sansad main bhej sakte hai to inhe samay se pahle janandolan dwara hata bhi sakte hai. kyon nahi janta ke pas koi option hai ki agar hamare numande sahi kam nahi kar rahe ho to samay se pahle inko hatane ka pravdhan ho. ye apni manmani karte rahe aur hum sirf inko jhelte rahe, nahi ab aisa nahi hoga. ab hume jagna hoga jo hum 64 saal se so rahe hai. apni antaratma ko jagna hoga.
    By PRADEEP KUMAR
    SOFTWARE ENG.

    ReplyDelete
  96. सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
    देखना है जोर कितना बाजुए कातिल में है ।

    यों खड़ा मौकतल में कातिल कह रहा है बार-बार
    क्या तमन्ना-ए-शहादत भी किसी के दिल में है ।

    ऐ शहीदे-मुल्को-मिल्लत मैं तेरे ऊपर निसार
    अब तेरी हिम्मत का चर्चा ग़ैर की महफिल में है ।

    वक्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमां,
    हम अभी से क्या बतायें क्या हमारे दिल में है ।

    खींच कर लाई है सब को कत्ल होने की उम्मींद,
    आशिकों का जमघट आज कूंचे-ऐ-कातिल में है ।

    सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
    देखना है जोर कितना बाजुए कातिल में है ।

    by Pankaj chauhan

    ReplyDelete
  97. Beautifully drafted. Keep it up. Thanks to Anna and his team (best think tank of country, especially Mr.Arvind Kejriwal,Madam Kiran Bedi & Hon'ble Shanti/Prashant Bhushan).Once corruption is banned at top label, entire system will automatically be corrected without any extra efforts. Thanks once again.
    Dushyant Mishra

    ReplyDelete
  98. Anna ji aapky sangharsh ky liye aapko salaam. Aaj ky yug ky Gandhi ho aap, ek dushri azadi ki ladai mein hum aapky saath hain "Jai Hind"
    ARPANA SINGH
    LUCKNOW
    UP.

    ReplyDelete
  99. Anna ji aap mein hamein BHAGAT SINGH ki chhavi najar aati hai....hum aapke saath hain, BHARAT MATA KI JAI.....BHARAT MATA KE SUPUTR ANN JI KI JAI HO..

    ReplyDelete
  100. jan lok paal bil aa kar rahega......

    ReplyDelete
  101. i m on fast from last 2 days at my home and light mashal daily at night for 15 min. i thanks mahatma Anna ji who comes outward to stop corruption . I agree with his lokpal bill but i request to stop comments on each others which may cause dangerous effects on our annsan.

    ReplyDelete
  102. jay hind , bharat mata ki jai , jay lokpal

    ReplyDelete
  103. Bhagwan se yhi prarthna hai k ANNA HAJARE ka yhi JANLOKPALL bill he pass ho........

    ReplyDelete
  104. kiran dede sadar namskar ...1o1 no toll free cahiya

    ReplyDelete
  105. I Fully support this bill and ANNA JI.
    || वन्दे मातरम ||

    ReplyDelete
  106. जन लोकपाल का समर्थन करते है जी जान से

    ReplyDelete
  107. ANNA TUM SANGHARSH KARO HUM TUMHARE SAATH HAI!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  108. Kaivalya Ghongde Indore madhya pradesh +918120453093 :-Ye jo janlokpal bill hey ye bohut hi uchit tarike se bana hua socha or samjha hua or suljha hua bill hey. ise parit karwane k liye samuch desh aapke saath hoga mera shree aana hazare or unki puri team se kahna hey ki yahi bill parit hoga anyaytha hum jaisa yuva samuh jo aaj tak chup tha wo ab apni takat sarkar k saamne rakhega... hamare anna ji ka itne dino tak bhukha rahna hum vyartha nahi jane dengey.... kyuki ye ladai ab unki hi nahi hamari he... or samay aane per agar iske liye jaan bhi deni pade to hastey hue di jayegi hamare dwara... Vandey mataram ...... jai hind jai bharat.... aana aapki ye mashal ab hamesha isi tarah jalyengey ye hamara aapse vaada hey ....or yah baat kahne ki hi nahi kar k dikhane ki hey jo hum dikhyengey.... jai hind ..

    ReplyDelete
  109. sir this is very strong bill it should be paas any cost i support .............jai hind.

    ReplyDelete
  110. sir this is very strong bill it should be paas any cost i support .............jai hind.

    ReplyDelete
  111. खींच कर लाई है सब को कत्ल होने की उम्मींद,
    आशिकों का जमघट आज कूंचे-ऐ-कातिल में है

    ReplyDelete
  112. जय श्री कृष्ण,

    आपका बहुत-बहुत धन्यवाद जो आपलोगों ने हिंदी में समझाया जनलोकपाल को, इसके लिए हम दिल से आभारी हैं | और इसका १००% नहीं बल्कि १०००% समर्थन करते हैं, बल्कि इससे भी सख्त कानून होना चाहिए | जो भ्रष्टाचार में लिप्त पकड़ा जाय, अथवा जिसका दंड प्रमाणित हो जाय, उसे फांसी के आलावा दूसरी कोई सजा ही नहीं बनती है ||

    || जय श्री कृष्ण ||

    ReplyDelete
  113. this is cruicial movement after 1947.

    ReplyDelete
  114. annaji keep it up we r with you

    ReplyDelete
  115. jab hamare priminister or ministers Corrupted nai hai to unhe anna ji ke bil se dar kyo lag raha hai sabne Corruption kiya hai tabhhi to ye nai cachte hai ki anna ji ka bill pass ho,agar pass ho jayega to inke saare reej khul jayenge or isiliye ye sab blackmoney bhi nai india la rahe kyoki agar uaka naam pucha gaya jinka black money swiss bank mai jama hai to ye kaiase apna naam batayenge time laga rahe hai jiise ye apna saara paisa swiss bank se transfer kar le or baad mai kahenge ki hamara paisa nahi hai ..

    ReplyDelete
  116. Anna JI me aapko dil se salute kerta hu ,Hamare is Langde desh ko bacha lijiye in corrupt politician ke haatho , uper se neeche tak sab golmaal ker rahe he ,Mehgai kam karne ke liye mere pass ek Advice he , Agar khane ki chijo ko Vayda bazar(Commodity Market) se hata dia jaye to Mehgai COntrol ho sakti he.

    From :Pawan Bathija(Gwalior)Mo.9827511458

    ReplyDelete
  117. SANKET & ASHISH SAID TO ANNA"S TEAM
    JAN LOK PAL BILL PASS HONE KE BAD JO LOK PAL KI TEAM HOGI UNKE MEMBER"S KON TAI KAREGA ? OR HUM EK BAT KARNA CHAHTE HAI WO MEMBER KA SUJAV BHI ABHI SE AAP GOV.KE SAMNE RAKHDE TO JYADA ACHHA HOGA KYO KI JAN LOK BILL PAS KARNE KE BAD GOV MEMBER TAY KARNE ME BHI MUSKILE KHADA KAR SAKTI HAI OR USKELIYE DUBARA ANDOLAN ME KATHINAYA ASKATI HE KYO KE JAB KIYA HE TO AB PURA KARKE HI CHODEGE
    AISA MOKA DUBARA NAHI MILEGA OR JUB TAK YE JANLOK PAL BIL PASS NAHI HO JATA ANDOLAN CHALU RAKHE HUM APKE SATH HAI.JAI HIND JAY JAN LOK PAL BILL .

    ReplyDelete
  118. Mein jan lokpal ko support karta hun , Govt Lokpal spasht (unclear)nahi hai

    ReplyDelete
  119. who is corrupt do not support Jan Lokpal bill

    ReplyDelete
  120. I support Jan Lokpal Bill.We all are with you Anna.

    ReplyDelete
  121. sir main qus aruna roy ji se puchna chahata hu kl wo media ke samne kha rhi thi ki janlokpla bil main khamiya hai.thika hai lekin ye baat uthane wali wo kha thi aj tk wo janta ke samne kyun nhi aayi jb aj pura desh aana ke sath khada hai to media ke samne khati hai ki janlokpal bil main khamiya hai .aruna ji aap janta ko ye bataiye ke aap sarkaar ki or hai ya janta ki or. agar aap itna hi janta ke bare main sochti hai to ramlila maidaan main aayiye na.dusra qus mera media walo se hai media wale kal aana se qus puch rhe the mera media ye nivedan hai ki wo srkar se khain ki saamne aayain phir aap log bhi srkaar se isi trha se qus puchain.

    ReplyDelete
  122. respected sir,,, realy its too good for AAM ADAMI,surely this law will help the all persons of INDIA....after read this law realy I m with ANNA & his great team.....Rajesh Bahuguna DEHRADUN,,,INDIA

    ReplyDelete
  123. hum aapke sath hai anna ji. hum log chahte hai ki aapne jo lokpal ka praroop banaya hai hame umed hai ki isse aam admi ko jankair bhi aapne ustar se jan jan ko pauncaya hai. hame umid hai ki isse hum sabhi ko ab bharastachar se ladne ki jankari mili. aab hum bharastachariyo ko pakarne me kanoonan sahayata mileyage aur hum khud bhi in bharastachariyo se apne astar se bhi nipat layange.. aagar sarkar lokpal bil nahi bhi lati hai toh bhi 20% bharastachar aapke isse andolan se kam hona chaiye..

    ReplyDelete
  124. I SUPPORT JAN LOKPAL BIL. WHOLE NATION WITH YOU. GO ANNA GO.

    ReplyDelete
  125. WHO IS NOT SUPPORT JAN LOAK PAL BILL. IT MEANS HE IS NOT AGAINST CORRUPTION.

    ReplyDelete
  126. I admire Annaji and his Team. If we compare people in Standing Committee and People in Team Anna ,on the basis of education , work info etc.,I can surely say that Team Anna is much better. Thats why I think people are with Anna irrespective of total knowledge of Jan Lokapal Bill as they know Anna and team not going to have any personal profit from this and it is not easy to fight agaist Corruption and Specially people who have powers. I thank Anna and Team for such Noble Cause

    ReplyDelete
  127. Please communicate me the punishment to complainer if he lodged wrong compliant to Lokpal

    ReplyDelete
  128. i am an engg. student and i also support the janlokpal bill.
    for this i am making aware people about the bill and difference between the jan lokpal and lokpal of goverment.
    i want to say one more thing that i a huge fan of Mr arvind kejariwal.
    sir ,keep it up .we will surely win.

    ReplyDelete
  129. Rajverma said.....
    ANNA JI IN BRASTH LEADERS SE HAMERE INDIA KO BACHAIYE AAP KIRSHNA JANMASTTMI PAR CORRUPTION RUPI KANS KA ANT KAR DEJIYE
    SARA DESH APKE SATH HAI
    JAI HIND

    ReplyDelete
  130. sir ,i want to add one more thing that please avoid the bad langauge which sometimes comes out due to excitement.
    but u r doing good job.

    ReplyDelete
  131. KUSUM BAIRWA
    AANNA JI HUM APKE SATH HAI
    JAN LOKPAL BILL HI GARIB JANTA KO CORRUPTION
    SE MUKTI DILA SAKTA
    BHAWANI MANDI RAJASTHAN

    ReplyDelete
  132. The concept is good but idea of implement is against the democratic rights.

    ReplyDelete
  133. 60 saal se jyada beet gaye azzad hue par viksit nai ho paye...corruption ki waza se......anna tum sangharsh karo hum tumhare sath hai...pass karo jan lok pal.

    ReplyDelete
  134. Hum garib nahi hai lekin desh k netao ne desh ko garib bana rakha hai..is vyawastha be badlaw ki zarurat hai..desh se bhrashtachar khatm hona chahiye...ye neta ab bhi na sudhre to inhe sansad se bahar ka rasta dikhana hi hoga

    ReplyDelete
  135. I Fully support this bill and ANNA JI, jai hind, jai bharat

    ReplyDelete
  136. mai support karti hoon desh ko desh chlane walon ne hi itna bura waqt dikhaya hai . desh ke saath accha hi hona chahiye .desh ko sabse upar hi hona chahiye tha ... jo hamare netao ki wajah se piche rah gaya

    ReplyDelete
  137. I support Jan Lokpal Bill.We all are with you Anna.

    ReplyDelete
  138. Mera poora samarthan hai janlokpal bill aur anna hajare ji ko. Bharat mata ki jai

    ReplyDelete
  139. Government bol rahi hi ke Prime minister ek Garima ki Post hi isliye prime minister ko iske dayere se bahar rakha jana chahiya, to Kuch prime minister or minister ko chodkar jab in neta logo ne is post ki garima nahi raki to inko lokpal ke dayre me kyon nahi lana chahiye.

    Anna ji Hum nahi sara India aapke sath hi, Is kurbani 50% success ho chuki hi, kyonki Janta ko Lokpal ke parti jagruk ho gayeee hi. yadi ye lokpal bina karnti ke pass ho jata to hundostan ki almost 70% logo ko Is Bil ya knoon ka pata bhi nahi chalta wo iska sahi upyog nahikar pate, or corruption ko khatam karne me apna yagdan nahi de pate.


    lokal ko lao or Corruption ko bhagao or bhrast logo to sabak sikhao...................

    Jai Hind

    ReplyDelete
  140. hum aapkye sat hi lekin myera 1 sawal hi kya aage jake har koi meyera 1 kanun lao myeri sat bhi public hi aur please aap log apase me 1jut rahye nahi to log aapko hi karept samjengy.my ne bhi 1 din ka anshan raka hi i am anna

    ReplyDelete
  141. we all are with jan-lokpal bill.
    we are with you anna..
    :)

    ReplyDelete
  142. Azad Bharat ko In Bhrastachariyo ne ek baar fir Gulami ki Zanjiro me bandh diya....
    Par hum aisa nahi hone dende Lokpal Bil To Pass hokar rahega. Anna Hum Akhari sans tak Aapke sath hai. Jai Bharat

    ReplyDelete
  143. Samaya ki mang hai yah jan lokpal bill. Ham is jan lok pal bill ka hirdaya se samarthan karte hai.

    MANOJ GOEL
    BAHADURGARH(HR)

    ReplyDelete
  144. sach me hum aaj bhi gulaam hai is cooruptoin ke kaaran ise jala do.............

    ReplyDelete
  145. हम 'बाहरी' लोगों का लोकतंत्र में केवल इ. वी. एम्. का एक बटन दबाकर अपने 'राजाओं' को संसद में भेजने तक का ही योगदान है. (ऐसा वो समझते हैं) पर जन लोकपाल बिल के लिए इस अभूतपूर्व आन्दोलन से 'उनका' ये भ्रम टूट जायेगा... अन्ना तुसी ग्रेट हो.... हमें अगले ७४ साल तक भी आपकी जरूरत है.....

    ReplyDelete
  146. respect for anna.. \m/
    whatever he is doing, doing for us....
    i request aal the youth to come forward n take atleast few steps with anna hazare...

    Sulabh Rai
    Sharda University (B.tech)
    Delhi

    ReplyDelete
  147. we all are support of jan-lokpal bill and
    we are with you anna....

    ReplyDelete
  148. Anna ji hum aapke saath hain.in bhrastachariyo ko to kale paani ka saja hona chahiye.mrityunjay pathak from latehar jharkhand.

    ReplyDelete
  149. kiran ji .namashkar
    main aap se itna kahna cahta hoo ki aap janta ko janlokpal bill ke bsre me batai .janta ko janlokpal bill or government lokpal bill me aantar batai.batai ke iisse brahtachar mitega nahi lekin brahtachar karne walo ke kya haalat hogi .batai ke iss me ek choota clirk se lekar PM tak iss ke daire me rahege .aap ek press confrence kareaga aur janta ko jan lokpal bill ke bare me bataiega .kyoke abhi toaam janta ko ye he nahi pata ke janlokpalbill kya hai abhi neta janta se kah rahe hai ke aana ji apna jan lokpal bill thopna chahte hai.janta ko batain ke hum thopna nahi chahte balki aajadi ke samay jaise bharat ka sapna hamare neta ne dekha tha vaise he desh hum banana chahta hai
    vinay sharma
    budaun u.p. .

    ReplyDelete
  150. respected sir,,, realy its too good for AAM ADAMI,surely this law will help the all persons of INDIA....after read this law realy I m with ANNA & his great team.....Vishal Srivastava
    Vishal Srivastava 9807730792
    Panki Kalyanpur, Kanpur (U.P.)INDIA

    ReplyDelete
  151. jab anna ji 74 year ke hote hue bhi itni himmat ke saath sarkar ke saath sangharsh kar sakte hai to hum kyon nahin or kitne din tak anna ko anshan par rehna padega aaj hum sabko jagne ki jarurat hai or humko sarkar ko ye dikhana hai ki is desh ke yuvaon me kitni sakti hai ye humari ekjutta ki hi kami hai ki anna ji ko 06 din ho gaye hai or saekar ke kaan par ju tak nahi rangi hai mera sabhi se ye nivedan hai ki anna ka saath de is andolan se muh na phere kyonki yeh waqt muh pherne ka nahi hai balki apne haq ke liye ladne ka hai..bol anna hajare ji ki jai anna nahi ye aandhi hai ye to dusra gandhi hai
    jai hind
    jai bharat
    ankit choudhary 8006622441

    ReplyDelete
  152. Anna ji you are great.
    I support Anna Hazare and team.
    I support jan lok pal bill.

    Binay kumar singh
    Kajri
    patan, palamu, jharkhand
    mr.binay_singh@rediffmail.com

    ReplyDelete
  153. Long live Anna Hajare,and special thanks to his Team Members and all the people who have supported the fight against corruption in India(Democratic Country??????)
    The way politicians and Ministers of d country are behaving against the Jan Lokpal Bill, clearly suggest how Corrupted they are so that they don't want any strong, powerful and Public Friendly bill to work against them.
    I support Jan Lokpal Bill and wish it will definitely be implemented as soon as Team Anna want.This is all I wish to say.
    JAI HIND
    -Amardip Rawat.

    ReplyDelete
  154. Thank u for Publishing in Hindi Version My support with you Deepak Raizada,Aligarh-202001 Mob.No.9927777729,9927026557

    ReplyDelete
  155. I am with Janlokapal Bill. My fight is against weak Lokpal bill.
    So, I'm supporting and thankful to Anna Hazare & Specially Er. Arvind Kejriwal.

    ReplyDelete
  156. देश को paharedaro से khatara है choro से नही,
    देश को dushmanon से नही gaddaron से khatara है.
    अन्ना संघर्ष करो हम apake साथ है जी.

    ReplyDelete
  157. hum aapka saat hai anna ji.....



    kushal.kushal668@gmail.com

    ReplyDelete
  158. i m with jan lokpal bill vande maataram

    ReplyDelete
  159. we all with u anna ji always until our last breath.....

    ReplyDelete
  160. I, also demanding from all Members of Parliament, political parties and other social organisations in written on valid papers that, they should give in written that (on official letterhead)-

    "I am in support of Janlokpal Bill drafted by IAC and development of strictness of this Bill and its strictly effective implementation in the country. I have read all the CONTEN, sections and corresponding articles about this bill. I TOTALLY agree all the statements and sections of Janlokpal Bill drafted by IAC.
    I am ready to give the promise to the voters from my constituency and citizens of India, "I am in support of Janlokpal Bill drafted by IAC-Team Anna Hajare, and violation of this promise will totally stop my political, social, economic,etc. concerns.

    I am liable of my voters as well as citizens of India about Janlokpal Bill which i agreed in this statement."

    I will respect Anna Hajare and the members of IAC.
    i will also fight with Govt. of India to pass And Protect this Janlokpal Bill from IAC, throwout in my life. "

    I am ready to give resign from the Membership of my political party, Politics and Parliament of India, if will fell to pass and protect Janlokpal Bill drafted by IAC."

    "I have read this document and signed morally, politically with all the senses with the voice of soul in me."



    SIGN AND SEAL


    Date-
    Place-

    ReplyDelete
  161. Lokpal Bill drafted by ARUNA ROY is a joking puppetry show directed by SONIA GANDHI and CONGRESS PARTY.

    Aruna Roy is the other side of the mind of SONIA GANDHI AND her greedy shameless corrupted dogs of Congress Party.

    Shame to you Aruna.

    ReplyDelete
  162. FROM SO MANY YEARS WE ARE GIVING "VOTE" BUT THAT WAS NOT OUR VOTE IT WAS COMPULSORY TO OUR VOTE (OPINION) TO THOSE PERSONS WHO WERE NOT ACTUALLY OUR REPRESENTATIVE THEY ALL WERE CORRUPT AND WE HAVE NO CHOICES IF THEN LIST SAYS 10 REPRESENTATIVE THERE WERE NO 11 NO. FOR SAYING THAT ALL 10 ARE CORRUPT AND WE ARE NOT AGREE .
    NOW TIME TO COME OUT AND SAY THAT
    YE VYAVSTHA BADALNI CHAHIYE
    OUR VOTE IS OUR OPINION THEN WHY ARE WE BOUND TO GIVE VOTE SOME ONE UNTILL WE FOUNT SOME UN CORRUPT PEOPLE/REPRESENTATIVE.
    SO I SUPPORT JAN LOKPAL BILL AND WANTS TO SAY EVERY ONE THAT IS ONLY ONE STEP WE SHOULD READY FOR LONG WARE AND SHOULD BE AWARE THAT THERE ARE MANY WOOLF (BHRAST NETA) IN US THEY ARE READY THAT HOW THEY GOT ALL CREDIT AND BECOME POWER FULL TO NEGLECT OUR OPINION .

    ReplyDelete
  163. yeh sach hai sacchai har bhrastachari ko kadwee lagtee hai, yeh bhrastachari ke liya "YAMRAJ" HAI...........

    ReplyDelete
  164. HUM JAN LOKPAL BIL KA SAMARTHAN KARTE HAI
    ISE JALDI SE JALDI LAGU KARNA CHAHIYE BHARAT SARKAR KO......................................

    ReplyDelete
  165. Really, Anna ji aapne ak nayi karnti la di hai ye bhrast leader desh ko khokhla kar rahe thei.. purane time mei Hamara desh ko sone ki chidiya ke naam se jana jata tha but pehle angrezo ne loot liya aur ab ye bhrast leader loot rahe hai... Apne desh ko bacha lo hm sab aapke sath hai... Desh ko dubara garib mat banne dena.......

    ReplyDelete
  166. MAIN APANE SABHI SANSADO SE NIWEDAN KARNA CHAHATA HUN KI WEY APNI ANTARAATMA KI AWAAZ KO SUN KAR IS JAN LOKPAL BILL KO SANSAD ME PASS KAR, SRI ANNA HAZARE KE BALIDANO KA SAMMAN KARE.

    ReplyDelete
  167. Agar Hamare Desh Main Gandhi Ji Jaise Hain To Chandrasekhar Azad Jaise Bhi Hain es Bhrast Sarkar Ko Sochna Chhaheeye Ki Abhi To Aandolan Hai Agar Road Par Chandarsekhar Ya BHagat Singh Uttar Aaye To Kya Hoga Isleeye Sansad Main Badhe IN Mantryon Ko Smazna Chhahiye Bhrchtachhar Ke Khilafh pehla Kadam Uthana Chhahiye.
    Jai Hind Jai Bhart Bharat Mata Ki Jai.

    ReplyDelete
  168. kuch logo ka kehna hai ki sansad kanun banenge but mai puchta hu ki apne kilaf wo kanun kaise banenge ????????????


    aga wo is aandonlan se nahi mane to hume Bagat singh aur AAjad ji ki tarha khun ki nadia bahha denge.......... aur wo khoon hoga brastachario ka chae wo koi ve ho mere apne ya pareye.......

    ReplyDelete
  169. Jai Hind Jai Bharat. main jan lokpal bill ka samarthan karta hu, or desh k gaddaron ki gaddari or bhrastachar se trast deshwasiyon k liye bhagwan shri krishna se pray karta hu ki

    EK BAAR PHIR AA KANHEYA EK BAAR PHIR AA !
    DOL RAHI BHARAT KI NAIYA AAKE PAAR LAGA !!

    LOOT RAHE HAIN DESH KO NETA BANKE AAJ LUTERE,
    BHRASTHACHAR K CHAAYE DESH ME BADE HI GHOR ANDHERE,

    AAJ ANDHERO ME AAKAR KE HUMKO RAAH DIKHA ,
    EK BAAR PHIR AA O KANHA EK BAAR PHIR AA !!!


    JAI HIND JAI HIND JAI HIND JAI HIND!!!

    MANOJ KUMAR (BHARTI) JAIPUR RAJASTHAN.

    ReplyDelete
  170. present time condition is that man has been courpeted in such a way that without take mony he is not doing any thing in gourment sector and as i know uttar pradesh is an example
    according to me i am going to given some suggeation to all indians is that .........
    (kahi na kahi aaj jo ho raha hai uske jimedar hum log bhi hai jiske karn aaz hume yea din ka samna karna pad raha hai humari kutch galtiya jaise 1-hum log khud hi riswat dete hai apne he kamo ko karane ke liye hume ese bund karna hoga 2-hum log subse badi galti tub karte hai jub hum log apna leader election me select karte hai hum janne ki kosis nahi karte ki jise hum oot de rahe hai yea ush layk hai bhe ya nahi
    //jub tuck her persion apni gimedari nahi nebhayega tub tuck na hi logo ka bhala hoga aur na hi desh ka ...........jai hind..........

    ReplyDelete
  171. Jai Hind,

    Hum Sab Annaji ke saath hain. Har Bharatwasi se nivedan hai ki , iss andolan ko hum saare bharatwasi jarror kamyaab banayege.

    ReplyDelete
  172. Anna Hazare hamare 2nd Gandhi ji hai.
    ye naram dal ke samajsevi hai, agar SARKAR inki baat nahi sunti hai, to hum navjwano ko majburan Khudi Ram Bosh,Baghat singh, Chandra Shekhar Ajad...Bankar is LOKPAL BILL KO PASS KARAYENGE.Iske liye hume kyon na jaan deni pade hum jan dene ke liye khusi-khusi tayer hai.Abhi to sarkar ne santi ki andolan dekhi hai ab 30 AUG ke bad kranti ki andolan dekhe gi.islye sarakar se anurodh hai ki LOKPAL 30 AUG se pehle parit kar de.
    Jai HIND. Jai BAHARAT. JAI ANNA.

    ReplyDelete
  173. Why I support Shri Anna Hazare “Jan Lok Pal Bil” because-
    1. Why it should be free from government interference :- Because investigation agencies can not prove corruption against them.
    2. Why judiciary should come under Lokpal bil;- Even today complete information about the wealth of this most corrupted chief justice of India is not known to the public.
    3. Why Ministers should come under Lokpal bil;- Even today people are not aware of complete information about the wealth of this most corrupted leaders and their parties of India. A very effective way to end corruption is to reduce the money spend in elections. Where does this money come from? If it is the contribution made by big industrialists, rich people and so on, then those candidates when elected serve them, not to country e.g. in Tamil Nadu, free laptops and T.V are distributed to people. Where did this money come from?
    4. All the politician, judges and new formed committee distorted the constitution and all the anti corruption bills according to their own interest.
    5. The Lokpal bill is cent percent legitimate and it upholds the spirit of the constitution because its main aim is to create a corruption free India. If by any chance it is against any article of the constitution, it is better to amend the constitution rather than the bill, because of its most noble cause.

    ReplyDelete
  174. Respected people,
    I want to know that ......
    Is Gov. not aware to the corruptions from low level to high level???? Definitely Gov. knows, but he is not doing any things because Gov. is also a part of corruption at some level. Now it is enough and people want to stop it. Anna's jan lok pal is one the best way to start & crackdown the corruption. so please read the detail of jan lokpal bill carefully and support. if you don't have a copy of it please ask me on this mail id sunilsahujk@gmail.com

    ReplyDelete
  175. anil jawale nashik

    anna hum aapake sath hai ,hum chahte hai ki bharat me lokpal aana chahate hai . hum bhi is ladhai me samil hai jay ho anna

    ReplyDelete
  176. Anna ji
    hum apake sath hai , hum chahate ki janlokpal aapne bharat desh me aana chahiye our jarur aayega ye mera dil ,mera bhagwan(anna)our bharatwasi sab kahate hai .
    aaj tak jo bharat desh ke koi neta ne nahi kiya jo hamare anna ne kar dikhaya hai .ye joneta log hai o sab bhrashtachar kar rahe une hume rokhana hai

    ReplyDelete
  177. Arvind Ji,

    Sir, Main is aandolan ka poora samrathan karta hoon aur main aapke saath hoon. Sir mere aapse ek request hai ki aap bhi apne "Swasth" ka care karein kyonki aap jub bhi bolte ya sunte hai to aapko Khansi aati hai. Please sir take proper treatment for the same becz humain aapki jaroorat hai aapki.

    God bless u.
    Take care
    9646588314

    ReplyDelete
  178. Annaji,
    Humko aap par garv hai. Janlokpal bahut accha hai.
    Hum Jan lokpal ke liye aap ke saath hai.
    Jai Hind

    Amit Kr Gupta
    Lucknow

    ReplyDelete
  179. Full support from every Indian,अन्ना संघर्ष करो हम apake साथ है जी.Umed Sinh Vaghela,Nadiad,Gujarat

    ReplyDelete
  180. I pray to god with my family for WIN
    to
    ANNA HAJARE.I'm with ANNA

    ReplyDelete
  181. Thanks to take againest such step. i read this bill and i know this is too good. BUT if CITIZEN CHARTER is out of this bill or with any reason govt or jan lokpal kameti remove this from bill. in this case this whole bill would be REDICULAS. so i request never touch CITIZEN CHARTER. and plz keep out Judicial system out of LOKPAL rather a new bill for Judical system.

    ReplyDelete
  182. vande mataram

    Me annaji ko support karata hu
    Bhagavan se meri prathna he ki mere jivan ke 10 sal annaji ko dede
    Hame yahi jan lokpal bill hi parliament me pass karavan he ame sarkar ya dusara koi lokpal bill majur nahi meri sabhi desh ke nagariko ko namra binti he jabtak ae janlokpal bill pass nahi hota tabtak hame ladana hoga.
    mane marate dum tak corruption ke khilaf ladata rahunga ae mera pran he
    or sabhi mere desh ke pyaare bhartiyo ko ae pran lena hoga
    jai hind
    bharat mataki jai

    ReplyDelete
  183. Anna aamhi tumchya barobar aahot, aata lokpaal manjur jhalya shivay mage hatayche naahi he aamhi hi tharwley..
    "Vande Mataram"

    ReplyDelete
  184. Anna Hazare hamare 2nd Gandhi ji hai.
    ye naram dal ke samajsevi hai, agar SARKAR inki baat nahi sunti hai, to hum navjwano ko majburan Khudi Ram Bosh,Baghat singh, Chandra Shekhar Ajad...Bankar is LOKPAL BILL KO PASS KARAYENGE.Iske liye hume kyon na jaan deni pade hum jan dene ke liye khusi-khusi tayer hai.Abhi to sarkar ne santi ki andolan dekha hai ab 30 AUG ke bad kranti ka andolan dekhegi.islye sarakar se anurodh hai ki LOKPAL 30 AUG se pehle parit kar de.
    Jai HIND. Jai BAHARAT. JAI ANNA.

    ReplyDelete